Home » बिज़नेस » GCA directs airlines to carry Hindi newspapers and magazines on board.
 

काम की ख़बर: इंडियन एयरलाइंस में मिलेंगे हिंदी अख़बार और मैगज़ीन

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 July 2017, 17:25 IST

भारतीय एयरलाइंस में सफ़र करने वालों को नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने बड़ी राहत दी है. जो लोग अब तक इन एयरलाइंस में हिंदी में अखबार और मैगजीन नहीं पढ़ पाते थे. उनके लिए (डीजीसीए) ने एयरलाइंस को आदेश देते हुए नयी एडवाइजरी जारी की है.  

नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने इंडियन एयरलाइंस को ये सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि, यात्रियों को अंग्रेजी और हिंदी दोनों में पढ़ने के लिए सामग्री उपलब्ध कराई जाए. डीजीसीए के संयुक्त निदेशक ललित गुप्ता ने एयरलाइंस को एक पत्र में कहा, "एयरलाइन्स में हिंदी रीडिंग सामग्री उपलब्ध ना कराना भारतीय सरकार की आधिकारिक भाषा की नीति के खिलाफ है."

हालांकि, इस फैसले का कांग्रेस पार्टी ने मजाक उड़ाया है. कांग्रेस के सलाहकार और पार्टी सांसद शशि थरूर ने ट्विटर पर लिखा , "डीजीसीए अब भारतीय उड़ानों में शाकाहारी भोजन के साथ हिंदी रीडिंग सामग्री उपलब्ध कराएगा."

इससे पहले, एयर इंडिया ने इकोनॉमी क्लास के यात्रियों के लिए घरेलू फ्लाइट्स में मांसाहारी खाना नहीं परोसने का फैसला किया था. इस फैसले पर विवाद हुआ हो गया था जिसमें इसे धर्म से जोड़कर देखा जा रहा था.

हालांकि एयर इंडिया ने कहा था कि उसने यह पहल लागत कम करने के लिए की है. एयर इंडिया नॉन-वेज खाना परोसना बंद करती है, तो उसे सालाना 10 करोड़ रुपये तक की बचत होगी.

First published: 26 July 2017, 17:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी