Home » बिज़नेस » Gold Biscuits Gifted to Hasmukh Adhia, Question Raised in Rajya Sabha
 

नोटबंदी से पहले मोदी सरकार के इस अफसर को गिफ्ट में मिले गोल्ड बिस्कुट, राज्यसभा में उठा सवाल

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 August 2018, 12:16 IST

सरकारी अधिकारियों को दिवाली पर गिफ्ट के रूप में सोने के बिस्कुट मिलने को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने मंगलवार को कहा कि इस मामले की कोई जांच शुरू नहीं की गई है . साथ ही उन्होंने कहा जिस मामले को लेकर सवाल पूछा जा रहा है उसमें वित्त सचिव (तत्कालीन राजस्व सचिव) हंसमुख अधिया ने विदेश मामलों के मंत्रालय द्वारा बनाए गए तोशखाने में वह उपहार जमा करवा दिए थे.

तोशखाने के रिकॉर्ड से पता चलता है कि अधिया ने 8 नवंबर 2016 को एक आई-फोन 7 फोन और 20 ग्राम के दो सोने बिस्कुट जमा किए थे, कुल मिलाकर 50 ग्राम के चांदी के सिक्का सहित इनकी कीमत 1,74,100 रुपये थी.

4 नवंबर 2016 को एक पत्र कैबिनेट सचिवालय को मिला था, जो तत्कालीन राजस्व सचिव हंसमुख अधिया ने भेजा था. पत्र में यह कहा गया था कि उन्हें कुछ कीमती गिफ्ट भेजे गए थे और उन्हें उनके द्वारा स्वीकार नहीं किये गए.

 

पीयूष गोयल ने कहा कि अधिया ने कैबिनेट सचिव को अपने पत्र में उल्लेख किया था कि इन वस्तुओं को उनकी अनुपस्थिति में उनके घर पहुंचाया गया था और इसलिए वह उन्हें मना भी नहीं कर सके. वित्त मंत्री ने कहा कि इस मामले में कोई जांच शुरू नहीं हुई क्योंकि "अधिकारी ने आचरण नियमों के अनुसार उपहार स्वीकार नहीं किया था और उसे तोशखाना को भेज दिया था.

अंतरिम वित्त मंत्री पियुष गोयल ने मंगलवार को कहा कि 2016 में वित्त सचिव हंसमुख अधिया को भेजे गए उपहारों के मामले में एक जांच शुरू नहीं की गई थी क्योंकि उन्होंने वस्तुओं को स्वीकार नहीं किया था और इसके बजाय इसे तोशखाना में जमा कर दिया गया था.

तोशखाना उन सभी उपहारों का रिकॉर्ड रखता है जो प्रधानमंत्री समेत सरकारी अधिकारी यात्रा करते समय प्राप्त करते हैं. आधिया ने लिखा था कि आइटम उनकी अनुपस्थिति में उनके घर पहुंचे थे और इसलिए, "वह उन्हें मना भी नहीं कर सके." गोयल ने जवाब में कहा, "इसलिए उन्होंने इन मदों को स्वीकार करने के लिए विदेश मंत्रालय के तोशाखाना से पूछने के लिए कैबिनेट सचिव से अनुरोध किया था."

ये भी पढ़ें : अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज के खिलाफ इंटरनेशनल अदालत में केंद्र सरकार हारी केस

First published: 1 August 2018, 12:10 IST
 
अगली कहानी