Home » बिज़नेस » Good news: Jio Prime membership offer will force other telecom operators to provide more data
 

खुशखबरीः जियो के चलते बाकी टेलीकॉम ऑपरेटर्स को देना पड़ेगा ज्यादा डाटा

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 24 February 2017, 17:06 IST

आप मानें या न मानें लेकिन भारतीय टेलीकॉम बाजार में तगड़ी प्राइसवार शुरू हो चुकी है. पहले तो रिलायंस जियो के मुफ्त ऑफर के चलते बाकी टेलीकॉम कंपनियों को अपनी डाटा और कॉल दरें सस्ती करनी पड़ीं, जो कि देश में एक ऐतिहासिक कदम है.

लेकिन अब जब जियो ने घोषणा कर दी है कि वो आगामी 1 अप्रैल से प्राइम मेंबरशिप शुरू कर रहा है, तो भी अगर आप सोच रहे हैं कि इससे जियो को नुकसान होगा और बाकी को फायदा, तो आप गलत है.

दरअसल, रिलायंस जियो की योजना न केवल खुद के ग्राहकों को सस्ती दरों पर बेहतर सेवा देने की है, बल्कि वो यह भी चाहता है कि बाकी के टेलीकॉम ऑपरेटर्स भी ग्राहकों से बेवजह की वसूली न करें.

रिलायंस जियो के आने से पहले बाकी टॉप तीन कंपनियां यानी एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया केवल रुपये-दो रुपये के अंतर पर एक जैसे प्लान ही पेश करती आई हैं. विशेषज्ञों की मानें तो एयरटेल को कॉपी करने के चलते वोडाफोन और आइडिया अपने ग्राहकों में इजाफा नहीं कर सकीं, और नंबर दो और तीन पर बनी हुई हैं.

अब जब रिलायंस जियो ने 99 रुपये में प्राइम मेंबरशिप शुरू कर दी है और प्रतिमाह 303 रुपये का रिचार्ज ऑफर पेश कर दिया है, तो दूसरी कंपनियों के लिए यह बहुत गहराई से सोचने का वक्त आ चुका है.

जाहिर है रिलायंस जियो के शुरुआती ऑफर के मुताबिक ही वो अपनी पेड सेवाएं भी बाजार में सबसे ज्यादा प्रतिस्पर्धात्मक रखेगा, जिससे बाकी कंपनियों के सामने कड़ी चुनौती आएगी.

 

इसके परिणामस्वरूप एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया जैसी कंपनियों को भी अपनी कॉल-डाटा की दरों को भी इसके आसपास ही रखना होगा.

ऐसे में यह सोचना कि जियो की पेड सर्विस शुरू होने के बाद जियो को घाटा होना शुरू हो जाएगा और बाकी कंपनियां फिर से पुराने ढर्रे पर आ जाएंगी, गलत है.

क्योंकि जियो की योजना शुरुआत से ही यह रही है कि वो बाकी कंपनियों से सस्ती दरों पर अपनी सेवाएं दें. अब ऐसे में जब रिलायंस जियो शुल्क वसूलना शुरू करेगी, बाकी कंपनियों के सामने भी यह मजबूरी आ जाएगी कि वो अपने मौजूदा ग्राहकों को रोके रखने के लिए बिल्कुल मिलते-जुलते प्लान पेश करे.

और इसका फायदा न केवल जियो ग्राहकों को बल्कि एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया के अलावा अन्य टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर्स के ग्राहकों को मिलना लाजमी है.

यानी 1 अप्रैल से जब जियो के ग्राहक हर माह 303 रुपये चुकाएंगे, तो बाकी कंपनियों को कॉलिंग पर नहीं बल्कि डाटा प्राइसिंग पर जोर देना होगा. क्योंकि जियो की कॉलिंग और रोमिंग मुफ्त ही है और वोडाफोन भी अपनी रोमिंग मुफ्त कर चुकी है, तो एयरटेल-आइडिया को भी यही रास्ता अपनाना होगा.

इसके साथ ही उन्हें मुफ्त कॉलिंग के अलावा ज्यादा से ज्यादा डाटा प्लान जारी करने होंगे, ताकि उनके मौजूदा ग्राहक बरकरार रहें और नए ग्राहक जुड़े रहें.

First published: 24 February 2017, 17:06 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

पिछली कहानी
अगली कहानी