Home » बिज़नेस » Government's big step to reduce diesel usage, 1000 LNG terminals will open across the country
 

डीजल नहीं LNG से चलेंगे देश के 10 फीसदी ट्रक, देशभर में खुलेंगे 1000 टर्मिनल्स - सरकार

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 November 2020, 16:28 IST

पेट्रोलियम और प्राकृतिक (Petroleum and natural gas minister) गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra Pradhan) ने गुरुवार को कहा कि भारतीय कंपनियों द्वारा डीजल की खपत में कटौती करने के लिए मुख्य सड़कों, औद्योगिक केंद्रों और देश के खनन क्षेत्रों में 1,000 लिक्विड नेचुरल गैस (एलएनजी) टर्मिनलों पर तीन साल में 10,000 करोड़ रुपये खर्च करने की संभावना है. प्रधान ने 50 एलएनजी स्टेशनों नींव रखते हुए एक समारोह में कहा "एलएनजी परिवहन के लिए भविष्य का ईंधन बनने जा रहा है, और इस संबंध में वाहनों के रेट्रो-फिटिंग के साथ-साथ मूल उपकरण निर्माताओं द्वारा विकास किया जा रहा है."

उन्होंने कहा ''सरकार स्वर्णिम चतुर्भुज पर 200 से 300 किलोमीटर की दूरी पर एलएनजी स्टेशन स्थापित करेगी और 3 साल के भीतर हमारे पास सभी प्रमुख सड़कों, औद्योगिक केंद्रों और खनन क्षेत्रों पर 1000 एलएनजी स्टेशन होंगे. उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि 10 फीसदी ट्रक एलएनजी ईंधन का इस्तेमाल करेंगे.


मंत्री ने कहा कि अगर एलएनजी व्हीकल सेगमेंट 10 मिलियन ट्रकों के बेड़े में 10 फीसदी बाजार हिस्सेदारी हासिल करता है, तो क्रूड के इस्तेमाल को कम करने में इसका सकारात्मक असर पड़ेगा. प्रधान ने कहा कि सरकार सीएनजी वाहनों, इलेक्ट्रिक वाहनों, ऑटो-एलपीजी को बढ़ावा देना जारी रखेगी, लेकिन साथ ही, एलएनजी को लंबे समय तक ईंधन के रूप में बढ़ा दिया जाएगा.

उन्होंने कहा कि एलएनजी न केवल डीजल की तुलना में लगभग 40% सस्ती है, बल्कि बहुत कम प्रदूषण का कारण भी है. भारी वाहनों में एलएनजी के उपयोग से न केवल ईंधन की लागत में कटौती होगी, बल्कि महंगाई को रोकने में भी मदद मिलेगी. मंत्री ने ऑटोमोबाइल निर्माताओं से एलएनजी से चलने वाले वाहनों का उत्पादन करने का आग्रह किया.

उन्होंने कहा कि कंपनियां 6,000 किलोमीटर लंबे राजमार्गों के साथ चार मुख्य महानगरीय क्षेत्रों को जोड़ने के लिए एलएनजी ईंधन स्टेशनों की स्थापना करेंगी, उन्होंने कहा कि प्रारंभिक चरण में परिवहन क्षेत्र को 25 मिलियन क्यूबिक मीटर प्रति दिन एलएनजी के बराबर उपयोग किया जा सकता है.

मंत्री ने कहा कि ये पचास एलएनजी स्टेशन देश के तेल और गैस की बड़ी कंपनियों जैसे आईओसीएल, बीपीसीएल, एचपीसीएल, गेल, पीएलएल, गुजरात गैस और उनकी संयुक्त उद्यम कंपनियों और सहायक कंपनियों द्वारा स्थापित किए जाएंगे. इन 50 एलएनजी स्टेशनों में से आईओसीएल 20 एलएनजी स्टेशन स्थापित करेगा, जबकि बीपीसीएल और एचपीसीएल प्रत्येक 11 एलएनजी स्टेशन स्थापित करेंगे.

Silver Price Today : चांदी की कीमतों में आयी बड़ी गिरावट, जानिए दिल्ली, लखनऊ और पटना में कितने हुए दाम

First published: 19 November 2020, 16:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी