Home » बिज़नेस » Govt doubles import duty on 328 textile products to 20% to boost production
 

328 कपड़ा उत्पादों के आयात पर सरकार ने डबल की इम्पोर्ट ड्यूटी, घरेलू निर्माताओं को होगा लाभ

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 August 2018, 17:19 IST

मंगलवार को सरकार ने देश में निर्माण को बढ़ावा देने के मकसद से 328 कपड़ा उत्पादों पर आयात शुल्क को 20 प्रतिशत तक दोगुना कर दिया है. लोकसभा में स्टेट फाइनेंस राज्य मंत्री पोन राधाकृष्णन इसको लेकर नोटिफिकेशन जारी किया. इसमें कहा गया है कि यह "सीमा शुल्क अधिनियम, 1962 की धारा 159 के तहत 10 प्रतिशत की मौजूदा दर से 20 प्रतिशत तक कपड़ा उत्पादों की 328 टैरिफ लाइनों पर सीमा शुल्क बढ़ाया जा अहा है.

ड्यूटी में वृद्धि घरेलू कपडा निर्माताओं को बढ़ावा देगी क्योंकि आयातित उत्पाद वर्तमान में सस्ता हैं. विनिर्माण गतिविधि में वृद्धि सेक्टर में नौकरियां पैदा करने में मदद करेगा, जो लगभग 10.5 करोड़ लोगों को रोजगार देती है.

 

पिछले महीने सरकार ने घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा देने के उद्देश्य से 20 प्रतिशत तक जैकेट, सूट और कालीन सहित 50 से अधिक वस्त्र उत्पादों पर आयात शुल्क दोगुना कर दिया था.

एक अधिसूचना के माध्यम से, केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और कस्टम बोर्ड (सीबीआईसी) ने आयात शुल्क में वृद्धि की है और कुछ वस्तुओं के लिए ड्यूटी के विज्ञापन-मूल्य दर को बढ़ा दिया है.

व्यापार विशेषज्ञों के मुताबिक, भारत कपड़ा क्षेत्र को कोई प्रत्यक्ष निर्यात प्रोत्साहन नहीं दे पाएगा, इसलिए घरेलू विनिर्माण को प्रोत्साहित करने के लिए इस सेगमेंट का समर्थन करने की आवश्यकता है. जून में टैक्सटाइल यार्न का आयात 8.58 प्रतिशत बढ़कर 168.64 मिलियन डॉलर हो गया.

हालांकि कपास यार्न / कपड़े / बने-अप, हैंडलूम उत्पादों का निर्यात 24 प्रतिशत बढ़कर 986.2 मिलियन अमरीकी डॉलर हो गया. मानव निर्मित यार्न / कपड़े का निर्यात 8.45 फीसदी बढ़कर 403.4 मिलियन अमरीकी डॉलर हो गया. सभी वस्त्र रेडीमेड कपड़ों के निर्यात 12.3 प्रतिशत घटकर 13.5 अरब डॉलर हो गए.

ये भी पढ़ें : Amazon Freedom Sale: चार्जर से लेकर स्मार्टफोन, लैपटॉप पर 50% से ज्यादा का डिस्काउंट

First published: 7 August 2018, 17:15 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी