Home » बिज़नेस » Govt panel DCC upholds 3,050 crore fine on Airtel, Vodafone Idea
 

Jio की इस शिकायत ने तोड़ दी एयरटेल, वोडाफोन Idea की कमर, छिड़ सकता है घमासान

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 July 2019, 13:55 IST

डिजिटल कम्युनिकेशंस कमीशन (DCC) के एक फैसले के बाद पहले से ही कर्ज में दबी टेलिकॉम इंडस्ट्री में फिर से घमासान मच सकता है. DCC) ने बुधवार को देश की दो बड़ी टेलिकॉम कंपनियों एयरटेल और आइडिया वोडाफोन पर 3,050 करोड़ का जुर्माना लगाया है. इन दोनों कंपनियों ने इसे मनमाना फैसला बताया और कानूनी रास्ता अपनाने की बात की है. DCC एक सरकारी पैनल है जिसमें दूरसंचार विभाग, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, NITI Aayog और आर्थिक मामलों के विभाग के शीर्ष अधिकारी शामिल हैं. पहले से ही आर्थिक संकट से जूझ रही टेलिकॉम कंपनियों के लिए यह बड़ा झटका माना जा रहा है.

मुकेश अंबानी की स्वामित्व वाली जियो ने शिकायत की थी कि ये दोनों कंपनियां पॉइंट्स आफ इंटरकनेक्शन (पीओआई) उपलब्ध नहीं करा रही हैं. दूरसंचार सचिव अरुणा सुंदरराजन ने बुधवार को संवाददाताओं से कहा, "विस्तृत चर्चा के बाद, यह निर्णय लिया गया कि डीसीसी ट्राई की सिफारिशों को स्वीकार करने के लिए जुर्माना लगाएगी और सरकार (दूरसंचार विभाग या दूरसंचार विभाग) के अनुसार सिफारिश करेगी." सुंदरराजन ने कहा कि मामले को भारतीय दूरसंचार नियामक संस्थान (ट्राई) को वापस भेज दिया गया था. नियामक ने कहा कि वह अपनी सिफारिशें नहीं बदलेगा.

DCC की सिफारिशों को अब DoT को भेजा जाएगा, जो लगभग तीन वर्षों से इस मुद्दे का अध्ययन कर रही है क्योंकि ट्राई ने पहली बार अक्टूबर 2016 में अपनी सिफारिशें भेजी थीं. DoT को जुर्माना जारी करने का अंतिम अधिकार है. टेलीकॉम ऑपरेटर्स का प्रतिनिधित्व करने वाली उद्योग संस्था सेल्युलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सीओएआई) ने कहा कि वह ऐसे समय का जुर्माना लगाए जाने से निराश है जब उद्योग वित्तीय तनाव से गुजर रहा है. भारती एयरटेल ने कहा कि इस निर्णय से ऑपरेटरों बैलेंस शीट पर एक अतिरिक्त बोझ होगा और डिजिटल रूप से सशक्त भारत की सरकार के दृष्टिकोण पर प्रतिकूल प्रभाव डालेगा.

 

एयरटेल ने फैसले को बताया मनमाना 

मिंट की रिपोर्ट के अनुसार एयरटेल ने कहा कि उसने जियो को इंटरकनेक्शन पॉइंट निर्धारित समय सीमा के भीतर प्रदान किए थे और वे उन संख्याओं से अधिक थे जिनके लिए अनुरोध किया गया था. ये सभी तथ्य अधिकारियों को प्रस्तुत किए गए थे. एयरटेल ने कहा कि जुर्माना लगाने के इस मनमाने फैसले को लेते समय उन तथ्यों पर विचार नहीं किया गया है.

एयरटेल के प्रवक्ता ने कहा हमें न्यायिक प्रक्रिया और कानून पर पूरा भरोसा है. वोडाफोन आइडिया के एक प्रवक्ता ने कहा, "हम अपने हितों की रक्षा के लिए कानूनी सहारा लेने सहित सभी विकल्पों का पता लगाएंगे." अक्टूबर 2016 में ट्राई ने सरकार से सिफारिश की थी कि रिलायंस जियो को कथित तौर पर PoIs से इनकार करने पर भारती एयरटेल और वोडाफोन इंडिया प्रत्येक पर 1,050 करोड़ और Idea पर 950 करोड़ का जुर्माना लगाया जाए.

जियो ने की थी ये शिकायत

सितंबर 2016 में Jio द्वारा शिकायत किए जाने के बाद यह बात सामने आई कि उसके नेटवर्क पर बड़ी संख्या में कॉल फ़ैल हो रही है. एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया इंटरकनेक्शन पोर्ट प्रदान नहीं कर रहे हैं. एक फोन कॉल को पूरा करने के लिए दो टेलीकॉन नेटवर्क को जोड़ने के लिए इंटरकनेक्शन के पॉइंट्स का उपयोग किया जाता है.

फार्च्यून ग्लोबल लिस्ट 500 में मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज बनी टॉप इंडियन कंपनी

First published: 25 July 2019, 13:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी