Home » बिज़नेस » Govt releases GDP back-series data, slashes growth rate during UPA era
 

मोदी सरकार के नए जीडीपी आंकड़ों में UPA के मुकाबले NDA आगे, भड़के चिदंबरम

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 November 2018, 10:13 IST

सरकारी पैनल ने सकल घरेलू उत्पाद (GDP) ने नए आंकड़े जारी किये हैं. केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) ने बुधवार को जीडीपी का आधिकारिक बैक सीरीज़ डेटा जारी किया जो दिखाता है कि पिछली कांग्रेस सरकार ( यूपीए) की तुलना में नरेंद्र मोदी सरकार के तहत आर्थिक विकास दर अधिक है. पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने इस आंकड़ों को लेकर मोदी सरकार पर हमला बोला है. चिदंबरम ने ट्वीट किया 'नीति आयोग के संशोधित GDP आंकड़े एक मजाक हैं. वे एक बुरा मजाक हैं,असल में वे एक बुरे मजाक से भी बदतर हैं.'

 

इन आंकड़ों के मुताबिक पिछले यूपीए सरकार के दौरान सालसाल 2005 -6 से 2013 -14 तक जीडीपी औसत 6.7 फीसदी की डॉ से बढ़ी. जबकि वर्तमान वर्तमान एनडीए सरकार में विकास दर औसत 7. 3 फीसी रही. 2010-11 से पहले के सभी वर्षों के लिए सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि को संशोधित किया गया है. नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा, "यह एक गहन सांख्यिकीय अभ्यास था, क्योंकि इसमें असंगठित क्षेत्र पर नए सर्वेक्षणों और आधार वर्ष 2011-12 के साथ उपभोक्ता और थोक मूल्य सूचकांक की एक नई श्रृंखला का डेटा शामिल था"

 

उन्होंने कहा "यह वैज्ञानिक पद्धति का उपयोग करके पूरी अर्थव्यवस्था का पुनर्मूल्यांकन है. यह विभिन्न नजरियों के साथ अर्थव्यवस्था को देखने जैसा है. नीति आयोग के वाइस चेयरमैन राजीव कुमार और MOSPI सेक्रेटरी प्रवीण श्रीवास्तव द्वारा पेश किये गए संशोधित आंकड़े के अनुसार 2004-05 के आधार वर्ष के बजाय 2011- 12 के आधार वर्ष के हिसाब से संशोधित किया गया है.

ये भी पढ़ें : पेट्रोल पंप डीलरों ने दी मोदी सरकार के इस बड़े फैसले को अदालती चुनौती

First published: 29 November 2018, 10:05 IST
 
अगली कहानी