Home » बिज़नेस » Govt targets PF, Now reduced interest to 8.7%
 

पीएफ पर है पड़ी सरकार की टेढ़ी नजर, ब्याज दर घटाकर किया 8.7 फीसदी

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 April 2016, 17:52 IST

भविष्य निधि (प्रॉविडेंट फंड) खाताधारकों के लिए यह साल शायद अच्छी खबरें लेकर नहीं आ रहा है. पहले तमाम उठापठक के बीच सरकार ने कुछ वक्त के लिए अपने नए नियम को तो टाल दिया है. लेकिन अब मौजूदा वित्तीय वर्ष 2015-16 के लिए इसकी ब्याज दरों को कम करके 8.7 फीसदी कर दिया है.

वित्त मंत्रालय के नए फैसले से देश भर में कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) से जुड़े करीब पांच करोड़ खाताधारकों को फर्क पड़ेगा. पहले खाताधारकों (बीते वित्तीय वर्ष) को जमा पीएफ पर 8.75 फीसदी ब्याज दर दिया जाता था. लेकिन अब नए वित्तीय वर्ष में इसमें 0.05 फीसदी की कमी कर दी गई है.

पीएफ खाताधारकों की परेशानी खत्म, निकाल सकते हैं पूरा पैसा

सरकार के इस ताजा फैसले के बाद ट्रेड यूनियन इसके विरोध में उतर आई हैं. भारतीय मजदूर संघ समेत अन्य संगठनों ने वित्त मंत्रालय के इस फैसले का विरोध करते हुए प्रदर्शन की धमकी दी है. 

बताया जा रहा है कि संघ आगामी 27 अप्रैल (बुधवार) को देश के ईपीएफ कार्यालयों पर विरोध प्रदर्शन करेगा. मजदूर संघ का कहना है कि सीबीटी (सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टी) की सिफारिश को दरकिनार करना स्वीकारोग्य नहीं है और यह कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के अधिकारक्षेत्र में सरकार की दखलंदाजी है.

पढ़ेंः नौकरी छोड़ने पर केवल आधा पीएफ ही मिलेगा

गौरतलब है कि बीते फरवरी में सीबीटी की एक बैठक में पीएफ खाताधारकों को 8.8 फीसदी की दर से वित्तीय वर्ष 2015-16  ब्याज देने का फैसला लिया गया था. चौंकानें वाली बात यह है कि सीबीटी के इस फैसले को पहली बार न मानते हुए ब्याज दरें कम कर  दी गई हैं.

पढ़ेंः ईपीएफ पर कर लगाने का क्या मतलब?

First published: 26 April 2016, 17:52 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी