Home » बिज़नेस » GST to be paid for vehicles sold as scrap, Maharashtra Authority of Advance Ruling (AAR) Decision
 

पुरानी गाड़ियों को कबाड़ में बेचने पर भी लगेगा GST, सरकार की पॉलिसी को लगेगा झटका

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 May 2018, 16:44 IST

महाराष्ट्र अथॉरिटी ऑफ अडवांस रूलिंग (AAR) ने एक फैसला सुनाते हुए कहा कि बिजनेस में इस्तेमाल गाड़ी पुरानी होने पर कबाड़ में बेची जाती है तो उसपर जीएसटी चुकाना पड़ेगा. हालांकि माना जा रहा है कि इस फैसले से सरकार की वीइकल स्क्रैप पॉलिसी को झटका लग सकता है. वर्तमान में सरकार पुरानी गाड़ियों की बिक्री पर 12 से 18 पर्सेंट तक जीएसटी लेती है.

केंद्र सरकार 15 साल पुरानी गाड़ियों को स्क्रैप में बेचकर नई गाड़ी खरीदने पर टैक्स में छूट देने की बात कर रही है. ट्रांसपोर्टर्स का कहना है कि सेकंड हैंड इस्तेमाल के लिए बिकने वाली गाड़ियों के मौजूदा रेट पर ही अगर स्क्रैप पर टैक्स लगेगा तो लोग स्क्रैपिंग को आगे नहीं आएंगे और स्कीम को झटका लगेगा.

गौरतलब है कि केंद्र इस वर्ष एक स्टील स्क्रैप नीति पेश करेगा. कहा जा रहा है कि यह नीति इस साल के दिसम्बर तक लागू हो जाएगी. महिंद्रा एमएसटीसी रीसाइक्लिंग, राज्य संचालित धातु स्क्रैप ट्रेडिंग फर्म एमएसटीसी और महिंद्रा इंटरट्रैड लिमिटेड के बीच संयुक्त उद्यम ने ग्रेटर नोएडा के पुराने वाणिज्यिक वाहनों से स्क्रैप को खत्म करने और बेचने के लिए पायलट रन शुरू किया है.

ये भी पढ़ें : ट्रम्प की धमकी से कच्चे तेल की कीमत में जबरदस्त उछाल, भारत में कर्नाटक ने रोके दाम

First published: 7 May 2018, 16:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी