Home » बिज़नेस » Half of the country ATM will be close, Expert says situation will be like Demonetization
 

फिर पैदा होंगे नोटबंदी जैसे हालात, पाई-पाई के लिए तरस जाएंगे आप !

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 November 2018, 13:10 IST

देशवासियों के लिए बुरी खबर है. खबर है कि देश की लगभग आधी से ज्यादा एटीएम मशीनें बंद होने की कगार पर हैं. एक्सपर्ट का मानना है कि देश में एक बार फिर नोटबंदी जैसे हालात पैदा होने वाले हैं. उद्योग संगठन कंफेडरेशन ऑफ एटीएम इंडस्ट्री यानि कैटमी ने आगाह किया है कि मार्च, 2019 तक देश के आधे एटीएम बंद होने की कगार पर हैं.

एटीएम बंद होने की खबर पर अर्थशास्त्रियों ने चिंता जताया है और कहा है कि अगर देश के आधे एटीएम बंद होते हैं तो देश में नकदी की कमी, बैंकों में लंबी-लंबी कतारें और एक बार फिर नोटबंदी जैसे हालात पैदा हो जाएंगे. अर्थशास्त्रियों ने कहा है कि देश में फिर से पाई-पाई की किल्लत पैदा हो जाएगी.

पढ़ें- पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के अधूरे सपने को पूरा करने जा रही है योगी सरकार

अजीम प्रेमजी विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ लिबरल स्टडीज, अर्थशास्त्र के सहायक प्रोफेसर और अर्थशास्त्री अमित बसोले ने बताया कि अगर मार्च 2019 तक देश के आधे एटीएम बंद होते हैं तो देश में नकदी की कमी, बैंकों में लंबी-लंबी कतारें और एक बार फिर नोटबंदी जैसी समान स्थिति उत्पन्न होगी. जिसके बाद देश में पैसे-पैसे के लिए मारामारी होगी. 

अर्थशास्त्री अमित बसोले ने कहा कि अगर एटीएम मशीनों में आवश्यक सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर अपग्रेड नहीं होता है तो एटीएम को बंद करने की आवश्यकता हो सकती है. वहीं एटीएम उद्योग के लोग कह रहे हैं कि इसमें समयसीमा के भीतर यह परिवर्तन करना संभव नहीं हैं, इसलिए यह अपेक्षित रूप से बंद होंगे ही.

पढ़ें- 'PM मोदी पर हमले में नाकाम रहे तो उनकी मां को गाली दे रहे कांग्रेस के लोग'

बता दें कि कैटमी ने कुछ दिनों पहले बताया था कि एटीएम हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर अपग्रेड के साथ ही नकदी प्रबंधन योजनाओं के हालिया मानकों के चलते मार्च 2019 तक संचालन के अभाव में 50 फीसदी एटीएम बंद हो जाएंगे. फिलहाल देश में इस समय तकरीबन 2.38 लाख एटीएम मशीनें हैं. सर्विस प्रोवाइडर्स को देश के करीब 1.13 लाख एटीएम को बंद करने को मजबूर होना पड़ सकता है. इनमें से एक लाख ऑफ-साइट और 15,000 से ज्यादा वाइट लेबल एटीएम हैं.

First published: 26 November 2018, 13:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी