Home » बिज़नेस » happiness came back in the old cars market, GST was 28% to 18% on older cars
 

GST में बदलाव से फिर लौट आयी पुरानी कारों की मंडी में रौनक

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 January 2018, 18:03 IST

जीएसटी लागू होने के बाद पुरानी कारों का कारोबार करने वाली कंपनियों में काम करने वाले लोगों के रोजगार पर संकट के बादल मंडरा रहे थे. क्योंकि यहां जीएसटी की दरें 28 फीसदी तक कर दी गयी थी. इसके बाद इन कंपनियों के मुनाफे में 3 से लेकर 3.5 फीसदी की कमी आ गयी थी. पुरानी कारों को खरीदने वालों की संख्या में बड़ी गिरावट आ गयी थी.

हालही में जीएसटी काउंसिल ने इन दरों में बदलाव कर इस इंडस्ट्री को बड़ी राहत दी है. काउंसिल ने पुरानी कारों पर दरों को 28 फीसदी से घटाकर 18 फीसदी और 12 फीसदी कर दिया है.

 

नई दरों में बड़ी कारों और एसयूवी पर जीएसटी की दरें 28 फीसदी से घटाकर 18 फीसदी कर दी गई हैं. जबकि छोटी कारों पर यह दरें 28 फीसदी से हटाकर 12 फीसदी की गयी हैं. जबकि एम्बुलेंस पर भी 15 फीसदी टैक्स ख़त्म कर दिया है. जीएसटी से पहले डीलरों को 5 फीसदी वैट) देना पड़ता था.

पुरानी कार बिक्री के 72 फीसदी बाजार पर हिस्सेदारी रखने वाली कंपनी ओएलएक्स ने सरकार के इस कदम का स्वागत किया है. एक रिपोर्ट के अनुसार ओएलएक्स इंडिया के निदेशक सनी कटारिया ने कहा, ''इससे कीमतों में और गिरावट आएगी और ऑनलाइन मार्केटप्लेस पर बिक्री के लिए पुरानी कारों की संख्या में तेजी आएगी। यह खरीदारों, विक्रेताओं और डीलरों सभी लिए सुखद स्थिति होगी.''

बिजनेस स्टैण्डर्ड की रिपोर्ट के अनुसार देश में पुरानी कारों का सालाना बाजार करीब 35 लाख इकाई का है जिसमें से 40 फीसदी संगठित क्षेत्र शामिल है.

First published: 20 January 2018, 18:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी