Home » बिज़नेस » Harpic charged with copying Patanjali, knocked down court door, Green Flush Toilet Cleaner, Reckitt Benckiser
 

इस कंपनी ने बाबा रामदेव की पतंजलि पर लगाया प्रोडक्ट कॉपी करने का आरोप

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 January 2018, 12:40 IST

बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद एक बार फिर विवादों में आ गई है. टॉयलेट क्लीनर सेगमेंट में अग्रणीय कंपनी रेकिट बेन्कीसर (इंडिया) लिमिटेड ने बाबा रामदेव के पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड पर हार्पिक जैसा टॉयलेट क्लीनर कॉपी करने के आरोप में दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. मिंट की रिपोर्ट के अनुसार कंपनी का आरोप है कि पतंजलि का  टॉयलेट क्लीनर 'ग्रीन फ़्लैश' उसके हार्पिक जैसा है.

80% बाजार हिस्सेदारी के साथ टॉयलेट क्लीनर सेगमेंट में मार्केट लीडर रेकिट बेन्किइजर ने तर्क दिया कि पतंजलि, जो कि एक अपेक्षाकृत नई कंपनी है, ने न केवल Harpic बोतल के पैटर्न और आकार को कॉपी किया बल्कि इसके लेबलिंग और उपयोग की भी प्रतिलिपि बनाई.

रेकिट बेन्किइसर ने आगे कहा कि पतंजलि के ग्रीन फ्लश शौचालय क्लीनर का विज्ञापन गुमराह कर रहा है क्योंकि यह "जैविक उत्पाद" नहीं है क्योंकि यह दावा है. विज्ञापन एक उत्पाद को "शून्य एचसीएल" (हाइड्रोक्लोरिक एसिड) के रूप में दर्शाता है और दूसरा "कम एचसीएल" है.

गौरतलब है कि इससे भी पतंजलि के उत्पाद विवादों में आ चुकी है. पतंजलि के सरसों तेल के विज्ञापन पर पर भी विवाद हुआ था. जिसमें कहा गया है कि कुछ तेल बनाने वाली कंपनियां कच्ची घानी के लिए न्यूरोटॉक्सिक हैक्सागॉन सॉल्वैंट एक्सट्रैक्शन प्रोसैस का इस्तेमाल करती हैं.

हैक्सॉन को सेहत के लिहाज से खतरनाक बताया गया है. कुछ कंपनियां सरसों का तेल बनाने में सस्ते पाम ऑयल का इस्तेमाल करती हैं। एस.ई.ए. का कहना है कि यह विज्ञापन भ्रामक है, इससे दूसरी कंपनियों की साख पर असर पड़ सकता है.

First published: 9 January 2018, 12:40 IST
 
अगली कहानी