Home » बिज़नेस » Hasmukh Adhia to retire in November, new core Budget team on cards
 

मोदी सरकार में सबसे पावरफुल अफसर हंसमुख अधिया की कमी को कौन पूरी करेगा ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 November 2018, 11:17 IST

वित्त मंत्री अरुण जेटली के लिए 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले अंतिम बजट पेश करने की तैयारी शुरू कर चुके हैं. इसलिए कोर बजट बनाने वाली टीम इस बार एक नए रूप में दिखाई देगी. नवंबर 2019 में सरकार के राजस्व सचिव हंसमुख अधिया सेवा निवृत्त होने जा रहे हैं. बिजनेस स्टैंडर्ड की रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से दावा किया गया है कि अधिया को इस बार सेवा विस्तार नहीं दिया जाएगा. कहा गया है कि खुद अधिया ने ही इसकी इच्छा नहीं जताई है. अक्सर ऐसा देखा गया है कि अगर वित्त सचिवों के सेवा निवृत्ति का समय बजट के आसपास आता है तो उन्हें एक्सटेंशन दिया जाता है.

उदाहरण के लिए पूर्व आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास को फरवरी 2017 में सेवानिवृत्त किया जाना था, लेकिन उनका कार्यकाल बजट के बाद की प्रक्रिया की निगरानी के लिए मई तक बढ़ा दिया गया था. अधिया 30 नवंबर को सेवानिवृत्त होने वाले है. रिपोर्ट के अनुसार अगले वित्त सचिव की दौड़ में जिस अफसर का नाम शामिल है उनका नाम अजय नारायण झा है, जो 1982 बैच मणिपुर-कैडर अधिकारी हैं. अधिया और जेटली के संबंधों को लेकर हमेशा चर्चा रही है. 

नौकरशाही सर्किल में चर्चा यह है कि 1985 के बैच गुजरात-कैडर अधिकारी और राजस्व विभाग में विशेष सचिव गिरीश चंद्र मुर्मू अगले राजस्व सचिव हो सकते हैं. जेटली एक नए राजस्व सचिव के साथ जीएसटी के लक्ष्यों को स्थापित करने किसी जिम्मेदार व्यक्ति को चाहते हैं. मुख्य आर्थिक सलाहकार (सीईए) का कार्यालय 27 अगस्त से खाली रहा. जब अरविंद सुब्रमण्यम ने अपना विस्तारित कार्यकाल कम कर दिया और अमेरिका अपने अकादमिक में वापस लौट आये.

भारतीय रिज़र्व बैंक के पूर्व गवर्नर बिमल जालान के नेतृत्व में एक सर्च पैनल ने साक्षात्कार के व्यापक दौर के बाद कुछ उम्मीदवारों को चुना है. आने वाले दिनों में और साक्षात्कार होंगे. पैनल सरकार को अपनी पसंद की सिफारिश करेगा. प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में कैबिनेट की नियुक्ति समिति इसके लिए अंतिम मंजूरी देनी देगी.

आगामी कोर बजट बनाने वाली टीम के अन्य सदस्यों में कोई बदलाव नहीं होने की संभावना है. इनमें आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग, वित्तीय सेवा सचिव राजीव कुमार और डीआईपीएएम (निवेश और लोक संपत्ति प्रबंधन विभाग) सचिव अतनू चक्रवर्ती शामिल हैं. गर्ग 1983 बैच राजस्थान-कैडर अधिकारी है. कुमार 1984 के बैच झारखंड बैच से हैं, जबकि चक्रवर्ती 1985 के गुजरात बैच के अफसर हैं.

First published: 5 November 2018, 11:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी