Home » बिज़नेस » HDFC Chief Deepak Parekh said that the economy is going through a recession
 

अब HDFC के चीफ दीपक पारेख ने कहा- मंदी के दौर से गुजर रही है अर्थव्यवस्था

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 August 2019, 11:28 IST

क्या अर्थव्यवस्था मंदी के दौर से गुजर रही है, यह सवाल अब कई उद्योग दिग्गजों ने उठाये हैं. लार्सन एंड टुब्रो के अध्यक्ष एएम नाइक के बाद अब एचडीएफसी के अध्यक्ष दीपक पारेख ने कहा कि एक तरह की मंदी साफतौर पर दिखाई दे रही है और यह समस्या गैर-बैंकिंग वित्त कंपनियों के कारण और भी बढ़ गई है.

उन्होंने कहा एनबीएफसी और हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों (एचएफसी) कर्ज देने से झिझक रही हैं. पारेख ने कहा, "मेरे दिमाग में जो महत्वपूर्ण बात है वह यह है कि अर्थव्यवस्था के विकास के लिए ऋणदाताओं में विश्वास फिर से भरना होगा." पारेख ने एचडीएफसी की वार्षिक आम बैठक में कहा ''आज चुनौती जोखिम से दूर है. बैंक कर्ज देने से हिचकते हैं और सुरक्षा के लिए लड़ रहे हैं.

पारेख ने कहा उम्मीद है कि त्योहारों के सीजन में जल्द ही स्थिति पटरी पर लौट आएगी. उन्होंने कहा अर्थव्यवस्था में एक अलग मंदी आई है, जो वित्त वर्ष 2019 में जीडीपी के 6.8 प्रतिशत की कम वृद्धि पता चलती है. पारेख और नाइक की टिप्पणियां इसलिए भी महत्वपूर्ण हैं क्योंकि मार्च तिमाही में जीडीपी की वृद्धि दर 5.8 प्रतिशत तक गिर गई है और आठ प्रमुख उद्योगों की वृद्धि दर घटकर जून में 50 महीने के निचले स्तर 0.2 प्रतिशत रह गई जो मई में 4.3 प्रतिशत थी.

इससे पहले गुरुवार को एलएंडटी के अध्यक्ष नाइक ने कहा था कि "अगर जीडीपी 6.5 प्रतिशत हो तक भी हासिल हो जाती है तो हमें भाग्यशाली महसूस करना चाहिए. गौरतलब है कि इससे पहले एक और उद्योगपति राहुल बजाज ने मंदी को लेकर चिंता जताई थी. उन्होंने कहा था '' ऑटो सेक्टर बेहद मुश्किल हालात से गुजर रहा है. कार, कमर्शियल व्हीकल्स और टूव्हीलर्स सेग्‍मेंट की हालत ठीक नहीं है. कोई मांग नहीं है और कोई निजी निवेश भी नहीं है, तो ऐसे में विकास कहां से आएगा? क्‍या विकास स्‍वर्ग से गिरेगा? ''

भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के सपने को लगा झटका

 

First published: 3 August 2019, 11:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी