Home » बिज़नेस » How Bacardi, a 150-year-old spirits brand, is taking the pop culture way to woo India’s millennials
 

150 साल पुरानी बकार्डी कैसे भारत में पॉप कल्चर के जरिये लोगों को लुभा रही है ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 September 2018, 15:42 IST

1998 में बकार्डी ने भारत में प्रवेश किया, जो काफी हद तक व्हिस्की-पीने वाला देश था. इसकी प्रीमियम-अभी-मजेदार छवि और इसकी जंगली लोकप्रिय जिंगल पर सवार होने पर ब्रांड ने देश में अपने लिए एक मजबूत जगह बना ली. लगभग दो दशकों में दुनिया की सबसे बड़ी निजी फर्म पूरी तरह से बदलते बाजार की अपनी हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए एक पूरी नई मार्केटिंग रणनीति तैयार कर रही है.

बाकार्डी इंडिया के मार्केटिंग हेड अंशुमन गोयनका ने एक साक्षात्कार में न्यूज़ वेबसाइट क्वार्ट्ज को बताया, "इस देश में उपभोक्ता वरीयताओं और सांस्कृतिक आदतों में बदलाव की गति मज़ेदार नहीं है." इसलिए हाल के वर्षों में बरमुडन फर्म ने कॉमेडियन और हिप-हॉप नर्तकियों, क्यूरेटेड खाद्य कार्यक्रमों पर हस्ताक्षर किए हैं, और नए युग कैफे के सहयोग से कॉकटेल शाम की मेजबानी की है ताकि वे भारत में लोगों को अट्रैक्ट सकें. शुरुआत करने वालों के लिए कंपनी अपने प्रमुख एनएच 7 वीकेंडर जैसे संगीत कार्यक्रमों से आगे जा रही है.

 

2017 में बकार्डी जो बकार्डी रम, ग्रे गुज़ वोदका औरBombay Sapphire Gin जैसे लोकप्रिय ब्रांड बेचती है, ने इवेंट मैनेजमेंट कंपनी केवल मच लॉडर के साथ एक हिप-हॉप नृत्य त्यौहार लॉन्च करने के लिए करार किया. कंपनी ने अपने ब्रीज़र ब्रांड को बढ़ावा दिया, अक्सर पहला शराब पीना कई शहरी भारतीयों के लिए प्रतियोगिता, विविड शफल, बॉलीवुड स्टार वरुण धवन द्वारा आयोजित की जाती है और दिल्ली, मुंबई और शिलांग में आयोजित की गई.

इस साल की शुरुआत में बकार्डी ने नई दिल्ली में एस्प्रेसो मार्टिनी शाम की मेजबानी करने के लिए वोडा के ग्रे गुज़ ब्रांड के लिए अपनी पहली घटना के लिए ब्लू टोकई कॉफी के साथ करार किया था.

ये भी पढ़ें : ये कार बन गई थी कभी हिटलर की पहचान, अब Volkswagen ने उत्पादन किया बंद

First published: 14 September 2018, 15:39 IST
 
अगली कहानी