Home » बिज़नेस » How many people in the country are using LPG, NSO figures different from Modi government claims
 

देश में कितने लोग LPG का इस्तेमाल कर रहे हैं, NSO के आंकड़े मोदी सरकार के दावों से अलग

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 November 2019, 13:17 IST

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) ने अपने ताजा सर्वे में भारत में लिक्विडफाइड पेट्रोलियम गैस (LPG) इस्तेमाल करने वाले लोगों का आंकड़ा जारी किया है. NSO के अनुसार भारत में लगभग 61 प्रतिशत लोग 2018 में भारत में खाना पकाने के लिए एलपीजी का उपयोग कर रहे थे. जबकि मोदी सरकार ने दिसंबर 2018 तक देश भर में लगभग 90 प्रतिशत एलपीजी इस्तेमाल करने वालों की संख्या बताई थी.

शनिवार को जारी पेयजल, स्वच्छता और आवास स्थिति पर एनएसओ के 76वें दौर के सर्वेक्षण के अनुसार 2018 में केवल 48.3 प्रतिशत ग्रामीण परिवारों ने एलपीजी का इस्तेमाल किया, जबकि शहरी क्षेत्रों में यह आंकड़ा 86.6 प्रतिशत था. यह सर्वेक्षण जुलाई और दिसंबर 2018 के बीच आयोजित किया गया था.


NSO के अनुसार दिलचस्प बात यह है कि 2018 के दौरान गांवों में 44.5 प्रतिशत घरों में लोग खाना पकाने के लिए लकड़ी का इस्तेमाल कर रहे थे. जबकि यह आंकड़ा 2018 में शहरों में 5.6 प्रतिशत था. एक साल पहले NDA सरकार का दावा है कि इस साल अक्टूबर तक देश में एलपीजी 96.5 प्रतिशत लोगों तक पहुंच गई है.

NDA ने प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (पीएमयूवाई) को बड़ी सफलता के रूप में दर्शाया गया था. पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय की एक शाखा, पेट्रोलियम प्लानिंग एंड एनालिसिस सेल (PPAC) के आंकड़ों के अनुसार LPG की पहुंच 1 दिसंबर 2018 तक 89.5 प्रतिशत लोगों तक थी.

एनएसओ ने अपने सर्वेक्षण में पहली बार एलपीजी कनेक्शनों की जानकारी दी है. NSO ने कहा है कि कई प्रमुख राज्यों में एलपीजी इतेमाल करने वालों की संख्या बेहद कम थी. इसमें ओडीशा (32.6 प्रतिशत), झारखंड (32.9 प्रतिशत), पश्चिम बंगाल (42.8 प्रतिशत), राजस्थान (48.1 प्रतिशत), मध्य प्रदेश (48.3 प्रतिशत), उत्तर प्रदेश (50.2 प्रतिशत) शामिल है.

 निजीकरण के खिलाफ हड़ताल पर जाएंगे BPCL के 12000 से ज्यादा कर्मचारी

First published: 26 November 2019, 13:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी