Home » बिज़नेस » How much do used hatchbacks, sedans and SUVs cost?
 

खरीदनी हो सेकंड हैंड हैचबैक, सेडान या एसयूवी, इससे ज्यादा खर्च न करें

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 July 2018, 17:00 IST

भारत में इस्तेमाल की गई कारों का बाजार नए कार बाजार से बड़ा है. साल 2017-18 में कुल 32 लाख 80 हजार यात्री वाहन, जिनमें हैचबैक, सेडान और एसयूवी शामिल हैं, भारत में बेचे गए थे. ओएलएक्स के अनुमानों के मुताबिक इस्तेमाल की गई कार उद्योग की मात्रा इसी अवधि में 3.8 मिलियन यूनिट थी. इस्तेमाल कारों के एक नई कार के मुकाबले स्पष्ट फायदे हैं. उदाहरण के लिए शोरूम से बाहर निकलने पर नई कारें अपनी कीमत का 30 कीमत खो देती हैं.

हालांकि कुछ ब्रांड और मॉडल हैं जो इस्तेमाल कार बाजार में बेहतर मूल्य पर बेची जाती हैं. ओएलएक्स के अनुसार जनवरी और अप्रैल 2018 के बीच कारों की सूची के विश्लेषण के मुताबिक, चार साल पुरानी कार की औसत कीमत, जो 65,000 किलोमीटर चल चुकी है, 4.1 लाख रुपये है.

ओएलएक्स के आंकड़ों में ये बात निकलकर सामने आयी है कि कारों की सेगमेंट के आधार पर कीमत अलग-अलग है. इसके अलावा खरीदारों को मेट्रो और गैर-मेट्रो शहरों के बीच समान रूप से विभाजित किया जाता है. वहीं 65 फीसदी विक्रेता मेट्रो शहरों से हैं. इसका मतलब है कि छोटे शहरों में लोग मेट्रो शहरों की इस्तेमाल कारें खरीद रहे हैं.

कितन में कौन कार

ओएलएक्स के आंकड़ों के अनुसार इस्तेमाल की गई हैचबैक कारों की औसत कीमत 3.5 लाख होती है. जबकि प्रीमियम हैचबैक 7 लाख, सेडान-7 लाख, प्रीमियम सेडान 15 लाख और लग्जरी मॉडल 15 लाख तक के बेचे जाते हैं. हैचबैक में बिकने वाली सेकंड हैंड कारों में सबसे ज्यादा आल्टो और इंडिका है. जबकि प्रीमियम सेडान में स्विफ्ट, आई-20 और पोलो सबसे आगे हैं. वहीं सेडान कारों में सियाज़, होंडा सिटी और वरना का नाम सबसे आगे है.

First published: 17 July 2018, 16:27 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी