Home » बिज़नेस » ICICI ED Enforcement Directorate file case against ex md ceo Chanda Kochhar
 

ICICI फ्रॉड मामले में चंदा कोचर पर गिरी गाज, ED ने किया मामला दर्ज किया

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 February 2019, 13:12 IST

ICICI बैंक की पूर्व एमडी और सीईओ चंदा कोचर की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही है. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने चंदा कोचर के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का आपराधिक मामला दर्ज किया है. चंदा कोचर पर वीडियोकॉन समूह को 1,875 करोड़ रुपये का ऋण मंजूर करने में कथित भ्रष्टाचार और अनियमितता के मामले की जांच की जारी है. उनके अलावा उनके पति दीपक कोचर, वीडियोकॉन के फाउंडर वेणुगोपाल धूत सहित अन्य लोगों को भी आरोपी बनाया गया है. 

ईडी के अधिकारियों ने बताया कि जांच एजेंसी ने इस मामले में पिछले महीने सीबीआई द्वारा दर्ज एफआईआर पर संज्ञान लेते हुए मनी लॉन्ड्रिंग रोकथाम कानून के तहत प्रवर्तन प्राथमिकी (ईसीआईआर) दाखिल की है. अधिकारियों ने कहा कि एजेंसी इस बात की भी जांच करेगी कि कहीं इस ऋण सौदे में की मंजूरी में कथित घूसखोरी की रकम दागी सम्पत्तियों में निवेश तो नहीं किया गया है. प्रवर्तन निदेशालय जल्द ही आरोपियों को सम्मन जारी कर सकता है. आरोप है कि  वेणुगोपाल धूत ने बैंक से कर्ज दिलवाने के लिए दीपक कोचर को निवेश के जरिए लाभ पहुंचाया. चंदा कोचर ने साल 2009 को कंपनी के सीईओ का पद संभाला था. 

पूर्व में जांच एजेंसी CBI ने मुम्बई के नरीमन पॉइंट पर नूपावर रिन्यूएबल्स एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड के कार्यालय और पर मुंबई और औरंगाबाद में वीडियोकॉन के दफ्तरों पर छापेमारी की. छापेमारी करने के कुछ ही घंटों बाद आरोपियों को नामजद किया गया. भारतीय दंड संहिता की धारा 120-बी आर / डब्ल्यू 420 और धारा 7, धारा 13 (2) आर / डब्ल्यू 13 (1) (डी) के तहत भ्रष्टाचार अधिनियम, 1988 के तहत मामला दर्ज किया गया है.

 

First published: 3 February 2019, 13:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी