Home » बिज़नेस » IMF said World Debt Hits Record $164 Trillion as Crisis Hangover Lingers
 

पूरी दुनिया पर 164 लाख करोड़ डॉलर का कर्ज मंदी का कारण बन सकता है ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 April 2018, 17:17 IST

इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड ने कहा कि दुनिया का कर्ज 164 लाख करोड़ डॉलर के रिकॉर्ड स्तर तक पहुंच गया है, जो एक आने वाले दिनों में दुनिया के लिए मंदी का कारण बन सकता है. आईएमएफ का कहना है कि 2016 में वैश्विक सार्वजनिक और निजी कर्ज वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद का 225 प्रतिशत बढ़ गया है.

पिछले साल आईएमएफ ने इसके आंकड़े मुहैया कराए थे. फंड ने बुधवार को अपनी अर्ध-वार्षिक वित्तीय निगरानी रिपोर्ट में ये बात कही है. 

आईएमएफ में वित्तीय मामलों के विभाग के प्रमुख विटर गैसपर ने एक इंटरव्यू में कहा, "164 लाख करोड़ एक बड़ी संख्या है, हम बढ़ते जोखि‍म की बात करते हैं तो इसमें एक जोखि‍म पब्‍लि‍क और प्राइवेट कर्ज का हाई लेवल है.

IMF के आशावादी वर्ल्‍ड इकोनॉमी आउटलुक को वैश्‍वि‍क कर्ज के बोझ ने यह साफ़ कर दिया है''. फंड ने साल 2018 और 2019 में 3.9 फीसदी के वि‍स्‍तार का अनुमान लगाया है."

वैश्विक मंदी विश्वव्यापी आर्थिक मंदी की अवधि है. वैश्विक मंदी की परिभाषा करते समय, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) कई कारकों को ध्यान में रखता है, पर उसके कथनानुसार 3 प्रतिशत या उससे कम का वैश्विक आर्थिक विकास, "वैश्विक मंदी के बराबर है.

First published: 21 April 2018, 17:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी