Home » बिज़नेस » In 2016-17, SBI wrote off so much bad loan in the account.
 

2016-17 में एसबीआई ने इतने करोड़ के बैड लोन को बट्टे खाते में डाल दिया

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2018, 15:47 IST

देश के सबसे बड़े ऋणदाता स्टेट बैंक  ऑफ़ इंडिया  ने 2016-17 में 20,339 करोड़ रुपये के बैड लोन को बट्टे खाते में डाल दिया जो सार्वजनिक क्षेत्र के अन्य सभी बैंकों में सबसे ज्यादा है. यह कुल 81,683 करोड़ रुपये है.

यह आंकड़ा उस वक़्त है जब भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) में अन्य बैंकों का विलय नहीं किया गया था. सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने 2012-13 में 27,231 करोड़ रूपये का लोन बट्टे खाते में डाला था.

 

यह आंकड़ा पांच साल में लगभग तीन गुना बढ़ गया है. 2013-14 में सरकारी बैंकों ने 34,40 9 करोड़ रुपये के बैड लोन को राइट ऑफ़ किया था. यह 2014-15 में 49,018 करोड़ रुपये था. 2015-16 में 57,585 करोड़ रुपये और मार्च 2017 को समाप्त हुए वित्तीय वर्ष में 81,683 रुपये हो गया.

एसबीआई के अलावा, पंजाब नेशनल बैंक ने 2016-17 में 9,205 करोड़ रुपये, बैंक ऑफ इंडिया (7,346 करोड़ रुपये), केनरा बैंक (5,545 करोड़ रुपये) और बैंक ऑफ बड़ौदा (4,348 करोड़ रुपये) का बैड लोन बट्टे खाते में डाला.

एसबीआई के अलावा, पंजाब नेशनल बैंक ने 2016-17 में 9,205 करोड़ रुपये, बैंक ऑफ इंडिया (7,346 करोड़ रुपये), केनरा बैंक (5,545 करोड़ रुपये) और बैंक ऑफ बड़ौदा (4,348 करोड़ रुपये) का बैड लोन बट्टे खाते में डाला.

First published: 11 February 2018, 15:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी