Home » बिज़नेस » income tax department issued 1.96 crore PAN in January-March 2018 quarter
 

साल 2018 में Pan card बनवाने वालों की संख्या में हुआ इजाफा, आंकड़ा पहुंचा 1.96 करोड़ के पार

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 August 2018, 13:07 IST
(प्रतीकात्मकम फोटो )

देश में पैन कार्ड बनवाने वालों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. आयकर विभाग ने मार्च 2018 को खत्म तिमाही (3 महीने) में 1.96 करोड़ नए पैन कार्ड जारी किए गए हैं. पैन कार्ड की संख्या में बढ़ोतरी सरकार के प्रयासों को दिखाता है. पैन कार्ड में 10 अंकों का अंग्रेजी और अंकों की मिली-जुली संख्या होती है. जो आपका पैन नंबर होता है. करदाताओं के पास पैन कार्ड का होना जरूरी है. आयकर जमा करने और रिटर्न फाइल करने के लिये यह जरूरी है. अब तक देश में कुल 37.9 करोड़ लोगों के पास पैन कार्ड है.

आयकर विभाग के आंकड़ों से पता चला है कि दिसंबर 2017 तक 35.94 करोड़ पैन कार्ड आबंटित किए गए. इसके बाद अगली तिमाही में मार्च तक ही 1.96 करोड़ नए पैन कार्ड जारी किए गए. इसमें सबसे ज्यादा  97.46 प्रतिशत व्यक्तियों को पैन  कार्ड जारी किए गए हैं.  फिर कंपनियों का नंबर आता है. आखिर में हिंदु अविभाजित परिवार (0.51 प्रतिशत) का स्थान है.

पैन की आवश्यकता को देखते हुए आयकर विभाग ने अब इलेक्ट्रोनिक पैन कार्ड की सुविधा शुरू की है. नया पैन नंबर लेने वालों के लिए e-PAN की सुविधा शुरू की गई है. इस पैन में डिजिटल हस्ताक्षर होंगे. इसको कार्ड आयकर विभाग की वेबसाइट incometaxindiaefiling.gov.in पर जाकर बनवाया जा सकता है. जिन लोगों के पास पहले से पैन कार्ड है. वो इसके लिए अप्लाई नहीं कर सकत हैं.

इसके साथ ही e-PAN बनवाने के लिए किसी तरह का चार्ज नहीं है. ये सुविधा बुल्कुल फ्री है. जबकि पैन कार्ड बनवाने के लिए 110 रुपये फीस के रूप में फीस जमा करनी होती है. लेकिन e-PAN में किसी तरह का चार्ज नहीं है. e-PAN की सुविधा को 29 जून से शुरू किया गया है. इस सेवा का लाभ केवल आम लोगों को मिलेगा. कंपनिया या कोई ट्रस्ट e-PAN की सुविधा का लाभ नहीं ले सकते हैं.

ये भी पढ़ें-  PAN कार्ड और आधार कार्ड में सुधार हुआ आसान, घर बैठे कर सकते हैं बदलाव

First published: 22 August 2018, 13:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी