Home » बिज़नेस » income tax return: if you Missed filing Face penalty or even jail
 

इनकम टैक्स रिटर्न समय से पहले फाइल न करने पर कितना जुर्माना लग सकता है ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 July 2019, 11:09 IST

आपको शायद पता न हो लेकिन आयकर (I-T) विभाग आपको इनकम टैक्स फाइलिंग की अंतिम तारिख के बाद भी आपको रिटर्न जमा करने की अनुमति देता है. आपके पास मूल्यांकन वर्ष (assessment year, AY) के भीतर रिटर्न दाखिल करने का विकल्प है, जो 2019-20 है. इसका मतलब है कि आप I-T विभाग द्वारा मूल्यांकन पूरा होने से पहले 31 मार्च, 2019 तक एक देरी वाला रिटर्न दाखिल कर सकते हैं. हालांकि इसके लिए आपको पेनल्टी देनी पड़ेगी.

यदि आप नियत तारीख के बाद लेकिन आकलन वर्ष के 31 दिसंबर से पहले अपना रिटर्न दाखिल करते हैं, तो आपको 5,000 का जुर्माना देना होगा. यदि आप आकलन वर्ष 2019-20 के 1 जनवरी से 31 मार्च के बीच इसे दाखिल करते हैं, तो आपको 10,000 की देरी से शुल्क देना होगा. यह जुर्माना उन व्यक्तियों के लिए लागू है, जिनकी आय 5 लाख से ऊपर है. यदि आप इसे आकलन वर्ष 2019-20 के 1 जनवरी से 31 मार्च के बीच दर्ज करते हैं और आपकी आय 5 लाख से कम है, तो आपको 1,000 तक का जुर्माना देना होगा.

इनकम टैक्स के नियमों के अनुसार अब अब दंड अनिवार्य है. यदि आप समय सीमा से चूक गए हैं, तो जब तक आप जुर्माना नहीं देते हैं तब तक कर रिटर्न दाखिल नहीं किया जा सकता है. यह पिछले साल लागू हुआ था. यदि आपको टैक्स का भुगतान करना है, तो आईटी विभाग जुर्माना राशि के साथ देय कर राशि पर ब्याज वसूल करेगा. धारा 234 ए के तहत ब्याज लगाया जाता है.

यदि आप अपने आईटीआर को पूरी तरह से दर्ज करने में विफल रहते हैं, तो कर विभाग आपको नोटिस भेज सकता है और इसके लिए मुकदमा भी चल सकता है. यदि आप अपना आईटीआर दाखिल करने में विफल रहते हैं तो जेल की अवधि तीन महीने से लेकर दो साल तक हो सकती है.

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने के लिए मिला एक और महीना, ये है फॉर्म 16 जारी करने की तारीख

First published: 27 July 2019, 10:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी