Home » बिज़नेस » India hikes ethanol price by up to 25%, sugar mills divert cane juice for ethanol production
 

अब एथेनॉल की कीमतों में सरकार ने की 25 फीसदी की बढ़ोतरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 September 2018, 16:24 IST

बुधवार को भारत के केंद्रीय मंत्रिमंडल ने एथेनॉल की कीमत को बढ़ाने की मंजूरी दे दी है. जिस पर तेल विपणन कंपनियां चीनी मिलों से इथेनॉल 25% तक खरीद लेंगी. इथेनॉल की कीमतों में बढ़ोतरी चीनी मिलों की मदद करेगी. इथेनॉल उत्पादन के लिए गन्ना के रस हटा देंगी. इससे पहले, सरकार ने चीनी गन्ना के रस से उत्पादित इथेनॉल की कीमत 47.5 रुपये प्रति लीटर तय की थी.

सरकार के हालिया फैसले से आने वाले 2018-19 सीजन में भारत का चीनी उत्पादन, जो अगले महीने शुरू होता है, अनुमानित 0.7-0.8 मिलियन टन कम होने की संभावना है. अगर मिलों बी-गुड़ से सीधे इथेनॉल बनाते हैं तो चीनी उत्पादन मामूली गिरावट की संभावना है. गौरतलब है कि बीते दिनों सरकार ने गुड़ और गन्ना के रस से इथेनॉल के उत्पादन को प्रोत्साहित करने का फैसला लिया था.

हालांकि अनुमानित 35.5 मिलियन टन चीनी उत्पादन की तुलना में गिरावट कमजोर दिखती है, लेकिन उद्योग जगत का कहना है कि यह सिर्फ शुरुआत है इसके अभी और भी बढ़ने की संभावना है. केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को निर्धारित एक बैठक में बी-हेवी गुड़ से उत्पादित इथेनॉल की खरीद मूल्य बढ़ाने के प्रस्ताव पर चर्चा की है.

 

2018-19 में इथेनॉल उत्पादन सत्र, जो दिसंबर 2018 से शुरू होता है, उद्योग का अनुमान है कि लगभग 2.0-2.25 बिलियन लीटर इथेनॉल चीनी कारखानों द्वारा तेल विपणन कंपनियों को सप्लाई किय जायेगा. इनमें से लगभग 400-500 मिलियन लीटर बी-भारी गुड़ से उत्पादित किए जाएंगे.

अगले 3-4 वर्षों में चीनी मिलों को नई और ताजा क्षमताएं जोड़ने के बाद, भारत का चीनी उद्योग 10 प्रतिशत मिश्रण के लिए ओएमसी की पूरी मांग को पूरा करने में सक्षम होगा जो 3.3-3.4 मिलियन लीटर है इथेनॉल इनमें से 1 अरब लीटर नई क्षमताओं और लगभग 350 मिलियन लीटर आसवन क्षमता 2018-19 चीनी मौसम के अंत तक जोड़ने की उम्मीद है.

First published: 12 September 2018, 14:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी