Home » बिज़नेस » India Posts' Payments Bank plans to start operations from April 2018
 

अप्रैल से शुरू होगा इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक, घर बैठे मिलेंगी सेवाएं

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2018, 14:46 IST
फाइल फोटो

ग्रामीण इलाकों और बैंकिंग सेवा से अब तक दूर रहने वाले देशभर के दूर-दराज के इलाकों के लोगों को भी अब अत्याधुनिक बैंकिंग सेवाएं मिल सकेंगी. इस साल अप्रैल से इंडिया पोस्ट्स पेमेंट्स बैंक (IPPB) देश भर में अपना कामकाज शुरू कर देगा और इसमें डिजिटल लेनदेन भी शामिल होंगे.

फाइनेंसियल एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक यह पेमेंट्स बैंक इंडिया पोस्ट्स के 1.55 लाख डाक घरों के जरिये काम करेगा. देश भर के 650 जिलों में डाक घर मौजूद हैं जो करीब 70 फीसदी ग्रामीण इलाकों तक पहुंच रखते हैं. जिले में इन बैंकों के कई कस्टमर एक्सेस प्वाइंट्स होंगे, ताकि उन तक भी पहुंचा जाए जो अभी तक बैंकिंग नहीं कर रहे हैं.

शुरुआत में IPPB करीब 3,500 कर्मचारियों के साथ कामकाज चालू करेगा, जिनमें से अधिकांश बैकिंग और संबंधित क्षेत्रों से संबंध रखने वाले हैं. एक विज्ञप्ति में भारतीय डाक विभाग ने कहा, "इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (IPPB) विस्तार कार्यक्रम तेजी से प्रगति कर रहा है और अप्रैल 2018 में इसे राष्ट्रीय स्तर पर चालू करने की तैयारी है."

इसमें आगे लिखा है कि IPPB देश में सबसे बड़ा वित्तीय समावेश नेटवर्क को मुहैया कराएगा, जिसमें शहरी और ग्रामीण दोनों ही इलाकों में डाकियों और ग्रामीण डाक सेवकों की सहायता से घर के दरवाजे पर ही डिजिटल पेमेंट सेवाएं मुहैया कराने की क्षमता है.

यह बैंक, डाकघर बचत बैंक के 17 करोड़ से ज्यादा सक्रिय खाताधारकों को NEFT, RTGS, UPI और बिल पेमेंट सर्विसेज जैसे कहीं से भी लेनदेन करने योग्य डिजिटल भुगतान के फायदे लेने में सक्षम करेगा. इसके अलावा, यह सरकार की डिजिटल पेमेंट पहल के अंतर्गत देश के डाकघरों में डिजिटल भुगतानों की स्वीकृति को सक्षम करेगा.

नवंबर 2014 में डाक विभाग ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया में पेमेंट्स बैंक के लिए आवेदन किया था और सितंबर 2015 में इसे सैद्धांतिक मंजूरी मिल गई थी.

फिलहाल IPPB 1 लाख रुपये बैलेंस तक के बचत खाते खोलने की सुविधा दे रहा है, और इसके साथ ही सभी तरह के वैयक्तिक लेनदेन और डिजिटल भुगतान की सेवाएं. आगे चलकर यह बैंक चालू खाता के साथ ही बीमा, म्यूचुअल फंड्स, पेंशन, क्रेडिट उत्पाद और विदेशी मुद्रा जैसी छर्ड पार्टी वित्तीय सेवाएं भी देगा.

IPPB की योजना है कि इस साल के अंत तक वो अपने सभी डाकियों को स्मार्टफोन से लैस कर दे ताकि ग्राहकों के घर के दरवाजे पर ही बैंकिंग सेवाएं दी जा सकें.

First published: 11 February 2018, 14:46 IST
 
अगली कहानी