Home » बिज़नेस » India’s gold imports said to collapse in 2018 as prices bite
 

सोना क्यों नहीं खरीद रहा भारत, पहली बार इम्पोर्ट में आयी इतनी बड़ी गिरावट

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 January 2019, 13:05 IST

गोल्ड इम्पोर्ट के मामले में भारत पिछले साल पांचवें स्थान पर रहा था. दूसरी सबसे बड़ी खपत वाले देश में उच्च घरेलू कीमतों ने खरीदारों को परेशान किया, जिस कारण गोल्ड के ज्यादातर व्यापारियों के पास गोल्ड स्टॉक जमा रहा. ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2018 में गोल्ड की विदेशी खरीद 762 मीट्रिक टन तक गिर गई, जो पिछले वर्ष की तुलना में 20 प्रतिशत कम है. इस दशक में यह देश की दूसरी बड़ी गिरावट है.

एक साल पहले जनवरी में सोने का आयात 23 प्रतिशत बढ़कर लगभग 60 टन हो गया. सोने की मांग, जिसका लगभग सभी आयात किया जाता है, भारत में रुपये में गिरावट के रूप में घट रही है. क्योंकि गोल्ड महंगी धातु है. डॉलर के कारण अगस्त के बाद से बुलियन में गिरावट आई है क्योंकि वैश्विक निवेशक इक्विटी मार्केट की अस्थिरता, धीमी वृद्धि के जोखिम और कम अमेरिकी ब्याज दर में बढ़ोतरी की संभावना से सुरक्षा चाहते हैं.

कॉमट्रेंडज रिस्क मैनेजमेंट सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक ज्ञानशेखर त्यागराजन ने कहा, "उसकी मांग कमजोर रही है. हालांकि, 2019 की पहली छमाही में सोने के पक्ष में दृष्टिकोण बदल सकता है, मांग में 20 प्रतिशत तक की वृद्धि होने की उम्मीद है क्योंकि निवेश के लिए खरीद बढ़ सकती है''. पिछले साल मुंबई में बेंचमार्क रुपए की कीमत वाले सोने का वायदा लगभग 8 प्रतिशत चढ़ गया, जो कमजोर स्थानीय मुद्रा द्वारा तीसरे वर्ष के लिए बढ़ रहा था, जो पिछले साल रिकॉर्ड में गिर गया था.

ये भी पढ़ें : 2018-19 के जीडीपी ग्रोथ के इस अनुमान को मोदी सरकार ने बताया शानदार

First published: 8 January 2019, 13:05 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी