Home » बिज़नेस » India's growth rate to be 4.7 percent in second quarter of 2020: ICRA
 

4.7 फीसदी रह सकती है 2020 की दूसरी तिमाही में भारत की वृद्धि दर : आईसीआरए

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 November 2019, 18:37 IST

रेटिंग एजेंसी आईसीआरए ने वित्त वर्ष 2020 के दूसरी तिमाही में भारत की वृद्धि के 4.7 फीसदी रहने का अनुमान लगाया है.आईसीआरए ने बताया कि इसके पीछे औद्योगिक उत्पादन के कमजोर होने की वजह है. रेटिंग एजेंसी ने भारत की जीडीपी की वृद्धि दर में आगे और गिरावट का अनुमान लगाया है और ग्रास वैल्यू एडेड (जीवीए) वित्त वर्ष 2020 की दूसरी तिमाही में 4.7 फीसदी से 4.5 फीसदी रहने की संभावना है. हालांकि, कृषि व सेवा जैसे क्षेत्र वित्त वर्ष 2020 की पहली तिमाही में दर्ज वृद्धि दर को बनाए रखने में सक्षम हो सकते हैं.

इससे पहले मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने 2019 के लिए भारत की GDP के अनुमान को 2019 के लिए 5.6 प्रतिशत तक घटाया था. मूडीज का कहना था कि सरकारी उपाय उपभोग की मांग की कमजोरी को एड्रेस करने में नाकाम रहे हैं. मूडीज ने कहा “हमने भारत के लिए अपने विकास के पूर्वानुमान को संशोधित किया है. अब हम 2019 में भारत की जीडीपी की वृद्धि दर के 5.6 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाते हैं''.

मूडीज ने पहले जेडीपी के लिए 5.8 फीसदी का अनुमान लगाया था. अक्टूबर में मूडीज ने निवेश को मंदी के लिए मंदी को जिम्मेदार ठहराया था. अपने ग्लोबल मैक्रो आउटलुक 2020-21 में मूडीज ने कहा कि भारत में आर्थिक गतिविधि क्रमश 2020 और 2021 से 6.6 प्रतिशत और 6.7 प्रतिशत होगी. 2019 की दूसरी तिमाही में लगभग 8 प्रतिशत से 5 प्रतिशत की गिरावट के साथ भारत की आर्थिक वृद्धि 2018 के मध्य से कम हो गई है. - एजेंसी  इनपुट के साथ 

RTI : RBI ने किया बैंकों का कर्ज न चुकाने वाली 30 कंपनियों का खुलासा

First published: 21 November 2019, 18:33 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी