Home » बिज़नेस » Indian government telecom department to launch phone traking system, it will minimize smart phones theft
 

अब आसानी से मिल जाएंगे चोरी हुए मोबाइल, सरकार करेगी फोन ट्रैकिंग सिस्टम लांच

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 July 2019, 19:11 IST

मोबाइल चोरी होना या गुम हो जाना ऐसी समस्या है जिसका सामना ज्यादातर लोगों ने किया होगा. लोग तब ज्यादा परेशान हो जाते हैं जब मोबाइल में कोई जरुरी या व्यक्तिगत डॉक्यूमेंट हो. स्मार्टफोन के इस दौर में बैंक डिटेल, ईमेल-आईडी सहित कई गोपनीय जानकारी मोबाइल में होती है जिसका नाजायज फायदा दूसरे के हाथ लगने पर उठाया जा सकता है.

लेकिन सरकार ऐसी तकनीक लांच करने जा रही है जिससे आप अपने खोए हुए फोन को ढूंढ पाएंगे. इस तकनीक से देशभर में ऑपरेट हो रहे चोरी के फोन को ट्रैक किया जा सकता है. इस सिस्टम की खासियत यह होगी कि फोन से सिम कार्ड निकाल देने या IMEI नंबर बदल देने के बाद भी फोन को ट्रैक किया जा सकेगा. इस तकनीक को टेलीकॉम सेक्टर में रिसर्च करने वाली संस्था, सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ़ टेलीमैटिक्स (C-DoT) ने तैयार किया है और इसके कई सफल परीक्षण हो चुके हैं. अगले महीने यानि अगस्त में इसे लांच किए जाने की संभावना है.

1 करोड़ से ज्यादा मोबाइल में है यह फेक एप, चेक करें अपना फोन और तुरंत करें अनइंस्टॉल, नहीं तो... 

ऐसे रुकेगी चोरी

भारतीय दूरसंचार विभाग ने C-DoT को मोबाइल ट्रैकिंग प्रोजेक्ट ''सेंट्रल इक्विपमेंट आइडेंटिटी रजिस्टर (CEIR)'’ का प्रोजेक्ट सौंपा था. इसका उद्देश्य था मोबाइल फोन की चोरी और नकली फोन के कारोबार को रोकना है. CEIR सिस्टम चोरी या गुम हुए मोबाइल फोन पर मौजूद सभी तरह की सेवाओं को तुरंत ब्लॉक कर देगा, सिम कार्ड हटाने या IMEI नंबर बदलने के वावजूद. यह सभी मोबाइल ऑपरेटर्स के IMEI डाटाबेस को कनेक्ट करेगा ताकि किसी भी नेटवर्क में ब्लैकलिस्ट की गई डिवाइस दूसरे नेटवर्क में काम न करे जिसके बाद मोबाइल काम करने लायक नहीं रहेगा. इस डाटाबेस की मदद से सुरक्षा एजेंसियां चोरी हुए मोबाइल को आसानी से ढूंढ़ सकेंगी और इसका दुरूपयोग रोका जा सकेगा.

First published: 7 July 2019, 19:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी