Home » बिज़नेस » Indian Oil, HP and BP’s plan to open 80,000 petrol pumps hits land hurdle
 

सरकारी तेल कंपनियां खोलने वाली थी 80,000 पेट्रोल पंप, नहीं मिल रही जमीन

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 December 2018, 13:15 IST

देश की सरकारी तेल कंपनियों (ओएमसी) ने अगले तीन सालों में देशभर में 80,000 पेट्रोल पंप खोलने की महत्वाकांक्षी योजना बनाई है लेकिन जमीन की उपलब्धता इन कंपनियों के लिए सबसे बड़ी बाधा बन सकती है. एक रिपोर्ट के अनुसार कंपनी से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि इन कंपनियों ने पिछले महीने विज्ञापित 79,770 साइटों में से 15-20% से अधिक नहीं खोली हैं, जो कि चार साल में ईंधन खुदरा नेटवर्क का पहला विस्तार है.

प्लान के मुताबिक इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड की योजना 37,971 रिटेल आउटलेट खोलने की है, जबकि भारत पेट्रोलियम कार्पोरेशन लिमिटेड (BPCL) और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कार्पोरेशन लिमिटेड (HPCL) के पास 16,000 हैं. एक ओएमसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ''15-20% की स्ट्राइक रेट को देखते हुए, हम केवल अगले तीन वर्षों में 13,000 पेट्रोल पंप स्थापित करने में सक्षम हो सकते हैं''. इंडियन ऑयल के पास वर्तमान में 27,185 पेट्रोल पंप हैं, एचपीसीएल 15,127 और बीपीसीएल 15,000 से अधिक संचालित करता है.

OMCs A & B साइटों में खुदरा दुकानों को अलग करता है. एक "ए" साइट आउटलेट वह जगह है जहां ओएमसी पट्टे पर जमीन लेते हैं और बुनियादी ढांचे को स्थापित करते हैं. डीलर के स्वामित्व वाले "बी" साइट आउटलेट हैं, जहां डीलरों और ओएमसी द्वारा भूमि और बुनियादी ढांचे की व्यवस्था की जाती है, जो केवल भूमिगत ईंधन भंडारण टैंक, वितरण पंप और साइनेज के लिए प्रदान करते हैं. सिटी गैस डिस्ट्रीब्यूशन (CGD) नेटवर्क से अगले दशक में over 1.1 ट्रिलियन का निवेश देखने की उम्मीद है.

वर्तमान में 31 कंपनियां 21 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 81 स्थानों पर सीजीडी नेटवर्क विकसित कर रही हैं. केंद्र सरकार, जो 10 मिलियन पाइप्ड प्राकृतिक गैस (पीएनजी) कनेक्शन प्रदान करने की योजना बना रही है, ने वाहनों के लिए कड़े उत्सर्जन स्तर पेश किए हैं और कार्बन फुटप्रिंट को कम करने के लिए ग्रीन कॉरिडोर विकसित करने की योजना बनाई है.

OMCs की योजना टियर -2 और टियर- III शहरों के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी विस्तार करने की है. इस साल पेश की गई डीलरशिप के लिए ओएमसी के संशोधित नियमों के तहत, एक नए डीलर के लिए आवश्यक शैक्षणिक योग्यता स्नातक होने की पिछली आवश्यकता से दसवीं कक्षा तक कम कर दी गई है और आयु सीमा 45 से पहले 60 वर्ष कर दी गई है. नई डीलरशिप को अधिक पारदर्शिता के लिए 2014 में शुरू की गई लॉटरी प्रणाली के आधार पर आवंटित किया जाएगा.

ये भी पढ़ें : अंबानी ब्रदर्स में नहीं हुआ ये सौदा तो मुश्किल में पड़ सकते हैं देशभर के Jio ग्राहक

First published: 24 December 2018, 13:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी