Home » बिज़नेस » IRCTC has issue guideline for passengers on food delivery train app
 

IRCTC: रेलवे ने दी सख्त चेतावनी, कहा- यात्रा के दौरान भूलकर भी न करें ये काम, होगा बड़ा नुकसान

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 May 2019, 15:12 IST

देश में यात्रा का सबसे लोकप्रिय साधन रेलवे है क्योंकि यह अन्य संसाधन से सुगम और सस्ते दर पर उपलब्ध है. रेलवे का उपयोग अमीर-गरीब हर वर्ग के लोग करते हैं. रेलवे समय-समय पर यात्रियों की सुविधा का ख्याल रखते हुए नियमों में बदलाव भी करती है और दिशा-निर्देश भी जारी करती है. अक्सर देखा जाता है कि लोग ट्रेन में सफर के दौरान खाना मंगवाते हैं. लेकिन गुणवत्ता खराब होने की शिकायत भी करते हैं. अब IRCTC ने ऐसे लोगों के लिए एक जरूरी चेतावनी दी जाती है. इसमें कहा गया है कि जो मोबाइल ऐप्स से खाना मंगाते हैं, वह IRCTC द्वारा अधिकृत नहीं हैं.

आधार नंबर वालों के लिए बड़ी खबर, सरकार बैंक अकाउंट में करेगी 2000 रूपये ट्रांसफर

 

IRCTC: रेलवे की सबसे बड़ी सौगात, अब ट्रेन लेट होने पर वापस होंगे पूरे पैसे

IRCTC ने यात्रियों से कहा है कि ट्रैवल खाना और रेल यात्री जैसी अनाधिकृत वेबसाइट्स से अगर खाना मंगाते हैं तो उसकी क्वालिटी और डिलीवरी को लेकर की गई शिकायतों के लिए IRCTC की कोई जिम्मेदारी नहीं होगी. इसमें सलाह दी गई है कि कि आप अपने खाने के ऑर्डर IRCTC की ऑफिशियल वेबसाइट या ऐप के जरिए ही बुक करें. यात्री फूड ऑन ट्रैक मोबाइल ऐप या फिर www.ecatering.irctc.co.in के जरिए ही सफर में खाना मंगाएं.

पिछले साल संसद में एक प्रश्न का जवाब देते हुए केंद्रीय रेल राज्यमंत्री राजेन गोहाई ने जानकारी दी थी कि अक्‍टूबर, 2018 तक रेलवे को खराब खाने की 7 हजार से ज्‍यादा शिकायतें मिलीं. अक्‍टूबर तक 7,500 से अधिक लोगों ने खराब खाने की शिकायत की है. इसमें सबसे अधिक 6,261 शिकायतें इंडियन रेलवे कैटरिंग टूरिज्म (IRCTC) के जरिए मिली हैं.

इस पर एक्शन लेते हुए करीब 155 लाख रुपये तक की पेनाल्टी भी लगाई गई. जबकि 2,322 वेंडर्स को चेतावनी देकर छोड़ दिया गया. जबकि एक का कॉन्‍ट्रैक्‍ट को रद्द कर दिया गया है.

First published: 17 May 2019, 12:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी