Home » बिज़नेस » Is this the new beginning between the Ambani brothers?
 

क्या ये अनिल और मुकेश के बीच दोस्ती की ये नई शुरुआत है ?

सुनील रावत | Updated on: 19 March 2019, 14:26 IST

 

सुप्रीम कोर्ट द्वारा निर्धारित 19 मार्च की समय सीमा से एक दिन पहले सोमवार को रिलायंस कम्युनिकेशंस ने स्वीडिश टेलीकॉम उपकरण निर्माता एरिक्सन को 460 करोड़ का भुगतान कर दिया. अगर अनिल समय पर यह भुगतान नहीं कर पाते तो उन्हें तीन महीने की जेल की सजा सुनाई जा सकती थी. इस रकम को चुकाने में कसी और ने नहीं बल्कि उनके बड़े भाई मुकेश अंबानी ने मदद की. इस मदद के लिए अनिल ने बड़े भाई का दिल से शुक्रिया अदा किया है. लम्बे समय तक एक दूसरे पर आरोप लगाने वाले अंबानी बंधुओ के बीच इस कदम को नई शुरुआत के रूप में देखा जा रहा है.

दरअसल 2002 में धीरूभाई अंबानी की मृत्यु के बाद उनके दो बेटों विवाद शुरू हो गया. जिसके बाद 2005 में परिवार के व्यापार साम्राज्य का विभाजन हो गया. मां कोकिलाबेन ने 18 जून को दोनों के बीच समझौता करवाया. बड़े भाई मुकेश को प्रमुख तेल व्यवसाय, RIL और IPCL मिला.

 

अनिल को Reliance Infocomm (telecom), Reliance Energy (power), Reliance Capital और Reliance Natural Resources (RNRL) का नियंत्रण मिला. बाद में दोनों भाइयों ने गैर-प्रतिस्पर्धा समझौते को रद्द कर दिया. इस समझौते ये यह था कि दोनों भाई एक ही व्यवसाय करके एक दूसरे के प्रतिस्पर्धी नहीं बनेंगे. इस समझौते के ख़त्म होते ही मुकेश ने रिलायंस जियो इन्फोकॉम के माध्यम से दूरसंचार में फिर से प्रवेश किया.

जियो के लॉन्च होने के बाद भारत के टेलीकॉम बाजार में खलबली मच गई. जियो ने पहले 6 महीने अपने ग्राहकों को फ्री इंटरनेट मुहैया करवाया. हालांकि इसके खिलाफ अन्य बड़ी टेलिकॉम कंपनियों ने ट्राई का दरवाजा खटखटाया लेकिन खुश खास फाय नहीं हुआ. जियो की कम कीमतों के कारण अन्य टेलिकॉम कंपनियों का घाटा बढ़ने लगा, उन्हें अपनी डेटा की कीमतों को कम करने के लिए मजबूर होना पड़ा. कई कंपनियां बंद हो गई.

जिस टेलिकॉम कंपनियों पर जियो ने सबसे ज्यादा प्रभावित किया उनमे अनिल अंबानी की रिलायंस कम्युनिकेशन (आरकॉम) शामिल थी. अनिल अंबानी ने खुद ये स्वीकार किया कि टेलीकॉम बाजार की इस बुरी हालत के लिए जियो जिम्मेदार है. आखिरकार अनिल अंबानी को आरकॉम को बंद करना पड़ा.

First published: 19 March 2019, 14:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी