Home » बिज़नेस » Isha ambani wedding preparation, 150 years old bangle shop supply bangles for isha wedding
 

ईशा अंबानी के हाथों में सजेंगी महारानियों की चूड़ियां, कीमत जानकर रह जाएंगे हैरान

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 December 2018, 10:05 IST

अंबानी परिवार की शाही शादी में हर उत्साव एक अलग ही अंदाज में मनाया जा रहा है. ईशा अंबानी की शादी के लिए तैयारियों जोर जोर से चल रही हैं. ईशा अंबानी की शादी में राजस्थान के रॉयल रंग भी देखने को मिलेंगे. राजस्थान के राजसी ठाट-बाट अब ईशा अंबानी की शादी के शाही उत्सव का एक हिस्सा होंगे. राजस्थान की एक चूड़ियों की दुकान अंबानी परिवार को लेकर इस समय चर्चा में है. महारानियों के श्रृंगार के लिए इस 150 साल पहले इसी दुकान की चूड़ियां पहली पसंद हुआ करते थे.

आज भी राजस्थान में राजाओं-महाराजाओं की वर्तमान पीढ़ी यहां की राजसी विरासत को संभाल रही है. राजस्थान में एक ऐसा ही परिवार है जो कांच की चूड़ियां बनाने के लिए बहुत प्रसिद्द हैं. ये परिवार 150 सालों से काम कर रहा है. राजस्थान में बीबाजी बैंगल्स के नाम से मशहूर ये दुकान पूरी दुनिया में शाही चूड़ियों की सप्लाई करता आया है.

हालांकि अगर कीमतों की बात करें तो यहां हर रेट की चूड़ियां मिलती है. सौ उपाए दर्जन से लेकर हजारों रुपये तक की चूड़ियों की वैरायटी यहां मिल जाएगी. लेकिन सबसे ज्यादा जो मशहूर है वो यहां की ख़ास कामदार चूड़ियां जो कि राजस्थान के राजसी अंदाज में बनाई जाती हैं.

 

जोधपुर के रहने वाले ये चूड़ियों के व्यापारी अंबानी परिवार को भी अपनी चूड़ियां सप्लाई करते हैं. इतना ही नहीं बॉलीवुड के कई मशहूर नाम भी इस दुकान की चूड़ियों के दीवाने हैं. कबीर बेदी और जूही चावला जैसे बड़े बॉलीवुड के कलाकार यहां से चूड़ियां लेते हैं.

ये भी पढ़ें-  ईशा अंबानी को मिला 452 करोड़ का वेडिंग गिफ्ट, नए आशियाने में शाही अंदाज में रहेंगे ईशा-आनंद

मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी की शादी देश के सबसे अमीर घराने की सबसे चर्चित शादी बन गई है. ईशा अंबानी 12 दिसंबर को आनंद पीरामल से शादी करेंगी. ऐसा कहा जा रहा है कि ईशा अंबानी के श्रृंगार में ये चूड़ियां चार चांद लगाएंगी. 150 सालों से चले आ रहे इस चूड़ी के व्यापार को अब इस परिवार के अब्दुल सतार संभाल रहे हैं. एएनआई से बात करते हुए अब्दुल ने बताया, ''मेरी दादी जी जिन्हें सभी बीबीजी कहकर बुलाते थे, वे यहां के राजा महाराजाओं और रानियों के यहां चूड़ियां पहनाने जाया करती थीं. वहीं से हमारा ये बिजनेश शुरू हुआ.'' गौरतलब है कि बीबाजी शॉप की शुरुआत 1970 में हुई.

First published: 8 December 2018, 13:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी