Home » बिज़नेस » IT sector, startups expected to hire 500,000 people in 2019: Mohandas Pai
 

मोहनदास पाई का बड़ा दावा- ये सेक्टर 2019 में देगा 500,000 नौकरियां

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 December 2018, 21:00 IST

 

उद्योग जगत के एक दिग्गज का कहना है कि भारत के सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) और स्टार्टअप्स को 2019 में 500,000 लोगों को नियुक्त करने की उम्मीद है, क्योंकि फ्रेशर्स की मांग लगातार बढ़ रही है. आईटी प्रमुख इंफोसिस लिमिटेड के पूर्व मुख्य वित्तीय अधिकारी मोहनदास पाई ने कहा कि पिछले सात वर्षों से वेतन में ठहराव के बाद उद्योग में प्रवेश स्तर के पैकेज 2018 में 20 प्रतिशत तक बढ़ गए.

पाई ने कहा "विकास भारतीय आईटी सेवा उद्योग में वापस आ रहा है," उन्होंने कहा 2018 में उद्योग के मुख्य आकर्षण और आने वाले कैलेंडर वर्ष में संभावनाओं के बारे में बात कर रहे हैं. पाई ने कहा कि 2018 में "एच 1 बी वीजा की स्थिति कठिन होती जा रही है," भारतीय कंपनियां जापान और दक्षिण-पूर्व एशिया पर अधिक ध्यान केंद्रित कर रही हैं, बड़ी कंपनियों द्वारा बंदी और खरीद-फरोख्त का व्यापक विस्तार किया गया है.

 

तेलंगाना की राजधानी में आने वाली कई नई कंपनियों के साथ हैदराबाद एक महत्वपूर्ण स्थान बन गया है.
उन्होंने यह भी कहा कि भारतीय कंपनियांअब एशिया में बाजारों में और अधिक सख्ती से विस्तार करने की कोशिश कर रही हैं, विशेष रूप से जापान और दक्षिण-पूर्व एशिया इसमें प्रमुख है.

आईटी कंपनियों में कर्मचारियों को फिर से भरना फिर से शुरू हो गया है. सभी कंपनियों की तुलना में डिजिटल आय दोहरे अंकों में बढ़ रही है. 2018 एक अच्छा साल रहा है". हायरिंग आगे बढ़ गई है, उन्होंने कहा "सात साल में पहली बार, हायरिंग मुआवजा (एंट्री-लेवल) 20 फीसदी बढ़ा है. लंबे समय के बाद फ्रेशर मुआवजा बढ़ रहा है. यह एक अच्छी खबर है" .

अब एंट्री लेवल पैकेज 450,000 रुपये से 500,000 रुपये प्रति वर्ष आंका गया है, क्योंकि कंपनियां "उच्च गुणवत्ता" को अटेंड करने के लिए अधिक भुगतान करने लगी हैं. भारत में स्टार्ट-अप के कुल 600,000 कर्मचारी हैं. उन्होंने कहा  "आने वाले कैलेंडर वर्ष में मेरा अनुमान है कि वे (स्टार्टअप्स) लगभग 200,000 लोगों को नियुक्त करेंगे. 2018 में मुझे लगता है कि उन्होंने 150,000 लोगों को काम पर रखा है".

उन्होंने कहा "पूरी तरह से आईटी सेवाओं और स्टार्ट-अप के बीच, मेरा अनुमान 450,000 से 500,000 लोगों को (2019 में भारत में) काम पर रखा जाएगा". 2018 में आईटी सेवा कंपनियों और स्टार्टअप ने मिलकर 350,000 से चार लाख लोगों को काम पर रखने का अनुमान लगाया है

उन्होंने कहा "अब स्टार्ट-अप बड़े होते जा रहे हैं. 39,000 स्टार्ट-अप्स (भारत में) हैं, हर साल 5,000 स्टार्टअप्स (भारत में) आते हैं, इसलिए जब स्टार्टअप्स हायर करने लगे हैं, तो वे सभी तरह के लोगों को हायर करते हैं, केवल इंजीनियर ही नहीं , जबकि सेवा कंपनियां अधिक इंजीनियरों और (उन लोगों के लिए) बीपीओ (व्यापार प्रक्रिया आउटसोर्सिंग,) को हायर कर रही हैं.

ये भी पढ़ें : Flashback 2018 : मोदी सरकार के लिए वरदान बनकर आया ये कानून, वापस आये कर्जदारों से 80,000 करोड़

First published: 26 December 2018, 21:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी