Home » बिज़नेस » Jio Prime Effect: Don't worry telecom operators are bound to offer cheap & competitive data & services in coming days
 

Jio Effect: सस्ते डाटा के अच्छे दिन में बहुत कम वक्त बचा

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 8 March 2017, 17:19 IST

रिलायंस जियो ने देश में अपनी टेलीकॉम सेवाएं देने के बाद बाकी ऑपरेटर्स को भी अपने पीछे चलने पर मजबूर कर दिया है. आलम यह हो गया है कि देश का यह सबसे नया टेलीकॉम ऑपरेटर, कई सालों से मजबूती से टिके दिग्गज ऑपरेटर्स पर भारी पड़ रहा है.

अब जब रिलायंस ने अपनी मुफ्त टेलीकॉम सेवाएं देने को बंद करने की घोषणा के साथ ही Jio Prime Membership से जुड़ने के लिए शुरुआती 99 रुपये देने की पेशकश रखी, जियो यूजर्स इसे भी हाथोंहाथ ले रहे हैं.

जहां रिलायंस जियो के हैप्पी न्यू ईयर ऑफर के बारे में पहले बाकी टेलीकॉम ऑपरेटर्स का कहना था कि जैसे ही 31 मार्च 2017 को जियो मुफ्त ऑफर खत्म होगा, इसके मौजूदा यूजर्स की संख्या में तेजी से गिरावट आएगी.

लेकिन अब 99 रुपये देकर एक साल के लिए Jio Prime Membership की घोषणा के बाद हर माह सस्ते टैरिफ प्लान सामने लाने वाली रिलायंस ने इन कंपनियों के मुंह पर ताला लगा दिया है.

रिलायंस जियो को टक्कर देने के लिए तमाम गुणा-भाग करने और रणनीति बनाने में जुटे टेलीकॉम ऑपरेटर्स अब कैसे Jio Prime Membership को टक्कर दें, इसकी उधेड़बुन में जुट गए हैं.

जबकि Jio Prime Membership लेने वालों का सिलसिला लगातार चल रहा है. अब टेलीकॉम ऑपरेटर्स के पास सिवाय Jio Prime Membership टैरिफ के बराबर या इससे सस्ते टैरिफ प्लान देने के अलावा कोई चारा नहीं बचा है.

 

बाजार विशेषज्ञों की मानें तो दिग्गज टेलीकॉम ऑपरेटर्स जियो प्राइम के बराबर या इससे सस्ते टैरिफ प्लान की घोषणा करने में जितना ज्यादा वक्त लगाएंगे, उन्हें उतना नुकसान होगा और जियो को उतना मुनाफा.

टेलीकॉम सेवा से जुड़े एक सूत्र ने बताया कि अब टेलीकॉम बाजार का माहौल बिल्कुल साफ है. जियो ने लोगों को पहले मुफ्त सेवाओं का चस्का लगाया और अब बहुत सस्ती दरों पर उन्हीं सेवाओं को लेने का मौका दिया. बाजार में ग्राहकों को रिलायंस ने सस्ते का चस्का लगा दिया है और बाकी कंपनियों के सामने अब और कोई चारा नहीं बचा है.

उन्होंने आगे कहा कि या तो यह कंपनियां अपनी मौजूदा शैली बरकरार रखते हुए तकरीबन एक जैसे प्लान पेश करते हुए बेहतर सेवाएं देने का दावा करें और रिलायंस जियो को उनके ग्राहक भी खुद से जोड़ने का मौका दें. या फिर बाजार में आगे बढ़कर लीडरशिप करें और खुद ऐसे प्लान पेश कर दें कि जियो के ग्राहकों को भी लालच आ जाए.

हालांकि हकीकत में ऐसा होगा, संभव होता नहीं नजर आता. इसका कारण दिग्गज टेलीकॉम कंपनियों को लगी मुनाफे की लत है और मुनाफे में होने वाली कमी को वे घाटे के रूप में देखते हैं. ऐसे में जियो से ग्राहकों के जुड़ने का सिलसिला जारी रहता दिख रहा है.

लेकिन एक बात तो तय है कि रिलायंस जियो के साथ जाते ग्राहकों को देखकर यह कंपनियां (एयरटेल, वोडाफोन, आइडिया आदि) इस माह के अंत तक या अगले माह के पहले सप्ताह तक Jio Prime Membership से मिलते-जुलते प्लान पेश ही करेंगी. बस आपको कुछ वक्त इंतजार करना होगा और देखना होगा कि आपका मौजूदा ऑपरेटर कब यह घोषणा करता है.

First published: 8 March 2017, 17:19 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

पिछली कहानी
अगली कहानी