Home » बिज़नेस » Jio Prime Offer may be in danger, telecom secretary asks TRAI to restrict promotional tariff to 90 days
 

Jio Prime ऑफर पर मंडरा रहा है खतरा!

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 March 2017, 14:42 IST

आगामी 1 अप्रैल 2017 से रिलायंस इंडस्ट्रीज की टेलीकॉम सेवा Jio द्वारा Prime membership की शुरुआत की जा रही है. 31 मार्च 2018 तक यानी एक साल तक के लिए जारी इस ऑफर पर अब संकट के बादल घिर आए हैं.

इसकी वजह टेलीकॉम सचिव जेएस दीपक का वह पत्र है जो उन्होंने टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (ट्राई) के चेयरमैन आरएस शर्मा को लिखा. इसमें उन्होंने कहा कि टेलीकॉम कंपनियों द्वारा दिए जा रहे 'प्रमोशनल टैरिफ' की समयसीमा पर पाबंदी लगाई जाए.

उन्होंने कहा कि टेलीकॉम कंपनियों के ऐसे प्रमोशनल ऑफर्स से इस उद्योग के बुरी तरह प्रभावित होने के साथ ही सरकार को करीब 800 करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ा है.

23 फरवरी को लिखे गए पत्र में जेेएस दीपक ने लिखा, "टेलीकॉम सेक्टर और सरकार की आय के बड़े परिदृश्य को ध्यान में रखते हुए टैरिफ आदेशों की पुर्नजांच और पुर्नविचार की तत्काल जरूरत दिखाई देती है."

 

यह पत्र उस दौरान सामने आया है जब रिलायंस जियो के आने के बाद अन्य टेलीकॉम ऑपरेटर्स के बीच टैरिफ वार छिड़ी हुई है, जिसमें जियो ने अपने प्रमोशनल ऑफर को लूपहोल्स के जरिये 90 दिनों की स्वीकृत समयसीमा से ज्यादा बढ़ा दिया था.

उत्तर प्रदेश से 1982 बैच के आईएएस अधिकारी जेएस दीपक को बुधवार को ही इस वर्ष जून से वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गनाइजेशन (डब्लूटीओ) का अगला एंबैसडर घोषित किया गया है.

उन्होंने अपने पत्र में यह भी लिखा कि मौजूदा वित्तीय वर्ष की जून में समाप्त तिमाही के दौरान सरकार को लाइसेंस फीस से 3,975 करोड़ रुपये मिले थे, जबकि सितंबर की तिमाही में यह रकम 3,584 करोड़ और दिसंबर की तिमाही में यह 3,186 करोड़ रुपये हो गई.

इससे पहले टेलीकॉम सेक्टर में रिलायंस जियो द्वारा दी गई मुफ्त कॉलिंग और डाटा सेवाओं के बाद छिड़ी टैरिफ वार को देखते हुए टेलीकॉम कमिशन ने उद्योग के बिगड़ते हालात के लिए ट्राई से कहा था.

लॉन्चिंग से ही जियो ने एक के बाद एक प्रमोशनल ऑफर देना जारी रखा है. इनमें सबसे पहला जियो वेल्कम ऑफर था, जिसके बाद हैप्पी न्यू ईयर ऑफर कर दिया गया, लेकिन इनमें भी मुफ्त डाटा-वॉयस सेवाएं दी गईं.

इस पत्र में ट्राई के उन दिशानिर्देशों को भी लिखा गया है जो 2002 और 2008 में जारी किए गए थे. इनमें कहा गया गया था कि प्रमोशनल टैरिफ की अधिकतम समयसीमा 90 दिन ही हो सकती है.

First published: 2 March 2017, 14:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी