Home » बिज़नेस » Jio seen overtaking Vodafone Idea, Airtel to become India’s largest telecom firm by 2018-end
 

क्या अंबानी की Jio जल्द देश की सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी बनने जा रही है ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 October 2018, 12:30 IST

यदि इसी तरह रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड अपने ग्राहकों की संख्या को बढाता रहा तो जल्द ही भारत में अग्रणी वायरलेस दूरसंचार कंपनी के रूप में उभर सकती है. कोटक इंस्टीट्यूशनल इक्विटी रिसर्च के विश्लेषकों के मुताबिक रिलायंस जियो का शुद्ध राजस्व पिछले तिमाही में भारती एयरटेल लिमिटेड के वायरलेस राजस्व को पार कर सकता है. अगर रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) इकाई गति को बरकरार रखती है तो यह 2018 के अंत तक जियो देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी के रूप में उभर सकती है.

कोटक इंस्टीट्यूशनल इक्विटी रिसर्च के विश्लेषकों ने एक नोट में कहा "हम उम्मीद करते हैं कि भारती एयरटेल के नेट इंडिया वायरलेस राजस्व वित्त वर्ष 2019 की दूसरी तिमाही में 87-88 बिलियन के आसपास होने की उम्मीद है. कोटक इंस्टीट्यूशनल के अनुसार रिलायंस जियो की 92.4 अरब डॉलर की राजस्व इंटरकनेक्ट का शुद्ध राजस्व है.

कहा गया है कि "अगर भारती एयरटेल तिमाही के लिए हमारे अनुमानित वायरलेस राजस्व को प्राप्त नहीं करती है तो रिलायंस जियो वोडाफोन आइडिया के बाद नेट इंडिया वायरलेस राजस्व पर भारती से आगे जा सकती है. रिलायंस जियो का ध्यान अपने ग्राहक आधार को बढ़ाने पर बना हुआ है लेकिन आधार आधारित ई-केवाईसी पर प्रतिबंध इस पर असर डाल सकता है.

 

उम्मीद की जा रही है कि अगले 9-12 महीनों में प्रतिस्पर्धी तीव्रता बढ़ेगी क्योंकि ग्राहक शेयर के लिए लड़ाई रहेगी. सप्ताहांत में रिलायंस जियो ने सभी पैकेजों के लिए 100% कैशबैक पेश किया. हालही में उत्तराखंड इन्वेस्टर समिट के दौरान मुकेश अंबानी ने राज्य में 4,000 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश करने की घोषणा की. मुकेश अंबानी ने रविवार को कहा कि उनकी टेलीकॉम कंपनी रिलायंस जियो अगले दो वर्षों में 2,385 से अधिक सरकारी स्कूलों और कॉलेजों को हाई स्पीड इंटरनेट से जोड़ देगा ताकि राज्य को 'डिजिटल देवभूमि' बनाया जा सके. उत्तराखंड इन्वेस्टर समिट में बोलते हुए अंबानी ने कहा कि जियो पर्यावरण संरक्षण उद्योगों और व्यवसायों को बढ़ावा देगा.

अंबानी ने कहा कि वह 'देवभूमि उत्तराखंड' को 'डिजिटल देवभूमि' में बदलना चाहते हैं. 2016 में अंबानी ने रिलायंस जियो के साथ दूरसंचार क्षेत्र में कदम रखा था. उन्होंने सबसे पहले मुफ्त कॉल और डेटा की पेशकश की. अंबानी के इस कदम ने टेलीकॉम कंपनियों को मर्जर के लिए मजबूर कर दिया. जियो ने लॉन्च होने के बाद से अब तक 220 मिलियन से अधिक ग्राहकों जोड़ लिए हैं.

ये भी पढ़ें : CBI में मचा घमासान : मीट कारोबारी मोइन कुरेशी केस से जुडी कई जानकारियां आयी सामने

First published: 22 October 2018, 12:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी