Home » बिज़नेस » #JioImpact: Reliance JIO created do or die situation for top telecom players like Airtel, Vodafone & Idea
 

टेलीकॉम कंपनियों को रिलायंस लाया 'जियो' या मरो की स्थिति में

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 10 December 2016, 16:39 IST

रिलायंस जियो ने इस साल अपनी 4G सेवाओं की लॉन्चिंग के साथ ही देश की दिग्गज टेलीकॉम कंपनियों में खलबली मचा दी. इसका नतीजा यह हुआ है कि अब देश की टॉप तीन टेलीकॉम कंपनियों के सामने जियो या मरो की स्थिति आ गई है.

दरअसल रिलायंस की 4G सेवा जियो की लॉन्चिंग से पहले तक देश की नंबर एक की टेलीकॉम कंपनी भारती एयरटेल, दूसरे नंबर की वोडाफोन और तीसरे नंबर की आइडिया की कॉलिंग और डाटा दरें तकरीबन एक दाम पर ही मिलती थीं.

खुशखबरीः रिलायंस जियो का फ्री ऑफर बढ़ सकता है 31 मार्च 2017 से आगे

तीनों एक या दो रुपये ऊपर-नीचे करके अपने ग्राहकों को तमाम प्लान दे रहे थे. फिर चाहे वो कॉलिंग का हो या डाटा का या फिर फुल टॉक टाइम प्लान का. हालांकि इन तीनों कंपनियों की यह दरें उनके सर्वाधिक ग्राहकों वाले प्रीपेड सेगमेंट के लिए ही थीं.

अब जब 5 सितंबर 2016 से रिलायंस इंडस्ट्रीज ने आधिकारिक रूप से अपनी सेवाओं को मुफ्त वेल्कम ऑफर के जरिये लॉन्च करने की घोषणा कर दी, इन तीनों दिग्गज कंपनियों में खलबली मच गई. हालांकि जियो की लॉन्चिंग के कुछ वक्त बाद यानी तकरीबन डेढ़ माह तक इन्होंने अपने पुराने प्रीपेड प्लान में ही कुछ रद्दोबदल किए और कुछ ज्यादा डाटा की पेशकश की. 

जी भरकर करो बातः मुफ्त अनलिमिटेड कॉलिंग की दौड़ में शामिल हो ही गया 'वोडाफोन'

लेकिन इस दौरान जियो ने रोजाना औसतन 6 लाख नए ग्राहकों को अपने साथ जोड़ा और जल्द ही 5 करोड़ ग्राहकों को जोड़ लिया. रिलायंस जियो की मुफ्त सेवा और देश भर के लोगों द्वारा इसे लेने की दीवानगी (रात भर लंबी लाइनों में लग कर सिम पाने का  इंतजार आदि) देख इन दिग्गज कंपनियों के हाथ-पांव फूल गए.

इस बीच इन कंपनियों द्वारा रिलायंस जियो को कनेक्टिविटी देने में भी कथित रूप से लाइसेंस की शर्तों का उल्लंघन किया गया जिससे जियो की रोजाना न जाने कितनी कॉलें ड्रॉप हुईं. इसके अलावा इन टेलीकॉम कंपनियों ने भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) से भी शिकायत की कि कैसे कोई कंपनी 90 दिनों से ज्यादा वक्त तक मुफ्त ऑफर दे सकती है. 

जियो से जंग में वोडाफोन ने शुरू किया 'डबल डाटा' ऑफर

इसके बाद ट्राई ने भी रिलायंस के फ्री वेल्कम ऑफर को जांचा और कहा कि 5 सितंबर से शुरू हुए इस ऑफर को 3 दिसंबर को समाप्त हो जाना चाहिए. हालांकि रिलायंस जियो ने अपने ग्राहकों से मुफ्त कॉलिंग-डाटा-ऐप्स सेवाओं को 31 दिसंबर 2016 तक देने का वादा किया था.

इसलिए बीते 1 दिसंबर को रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुखिया मुकेश अंबानी ने संवाददाता सम्मेलन में घोषणा की कि 3 दिसंबर के बाद उनका वेल्कम ऑफर फ्री हैप्पी न्यू ईयर ऑफर में तब्दील कर दिया जाएगा. ट्राई के नियमों को ध्यान में रखते हुए उन्होंने 90 दिनों बाद अपने ऑफर का नाम बदल दिया और यूजर्स को हैप्पी न्यू ईयर ऑफर के अंतर्गत 31 मार्च 2017 तक मुफ्त सेवाएं देने की पेशकश की.

रिलायंस की घोषणा में नया कुछ भी नहींः जियो मुफ्त ऑफर पीरियड बढ़ना पहले से ही था तय

जियो की इस घोषणा के बाद इन तीनों दिग्गज कंपनियों के हाथ-पांव फूल गए. हालांकि मुकेश अंबानी के भाई और रिलायंस कम्यूनिकेशंस के मुखिया अनिल अंबानी ने अपने ग्राहकों के लिए 149 रुपये में 28 दिनों के लिए मुफ्त कॉलिंग की पेशकश कर दी. इसके तहत डाटा बेनिफिट भी दिया गया और जियो से अलग यह सेवाएं 2G और 3G ग्राहकों के लिए भी मुफ्त रखी गईं.

इसके बाद एयरसेल (रिलायंस के साथ मर्जर हो चुका है) ने भी यही घोषणा कर दी. अब बारी आई एयरटेल की तो बृहस्पतिवार 8 दिसंबर को एयरटेल ने भी प्रीपेड यूजर्स के लिए मुफ्त कॉलिंग के दो प्लान पेश कर दिए. एयरटेल के बाद आइडिया और फिर अगले दिन वोडाफोन ने भी अपने ग्राहकों के लिए मुफ्त अनलिमिटेड कॉलिंग वाले दो प्लान पेश कर दिए.

जानिए क्यों रिलायंस बंद कर सकता है आपका जियो वेल्कम ऑफर

टॉप तीन टेलीकॉम कंपनियों द्वारा की गई असीमित कॉलिंग के प्लान की घोषणा के बाद अब कहा जा रहा है कि रिलायंस जियो अपने हैप्पी न्यू ईयर ऑफर को 31 मार्च 2017 के बाद भी कुछ माह के लिए मुफ्त में बढ़ा सकता है.

वैसे भी 4 मार्च से शुरू हुआ रिलायंस जियो का मुफ्त हैप्पी न्यू ईयर ऑफर ट्राई के 90 दिनों के ऑफर नियम के चलते 3 मार्च 2017 को समाप्त हो जाएगा. यानी मार्च में रिलायंस जियो को अपने ऑफर को 31 मार्च तक बढ़ाए रखने के लिए इसे कोई नया नाम देना होगा.

अब देखने वाली बात यह है कि मुफ्त असीमित कॉलिंग के दो प्लान पेश कर चुकीं दिग्गज कंपनियां और क्या घोषणा करती हैं.

First published: 10 December 2016, 16:39 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

पिछली कहानी
अगली कहानी