Home » बिज़नेस » Just after 4 debits can freeze Jan Dhan accounts, banks turning them into regular account
 

जन धन खाते पर बैंकों ने डाला डाका, गरीबों से वसूल रहे जुर्माना

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 May 2018, 18:49 IST
pm modi

पीएम नरेंद्र मोदी की बहुप्रचारित जन धन योजना के करोड़ों ऐसे बचत खाते हैं जिन पर बंद होने का खतरा मंडरा रहा है. भारतीय रिजर्व बैंक ने जीरो बैंलेंस के इन खातों को खुलवाने के लिए खूब प्रचार किया. पीएम मोदी ने भी 'जीरो बैलेंस-जीरो चार्ज' वाले जन धन खातों की खूब तारीफ की और गरीबों को खाता खुलवाने के लिए प्रेरित किया.

बैंकों ने भी जमकर जनधन अकाउंट खोले, लेकिन अब इन खातों से जुड़ी चौंकाने वाली खबर सामने आई है. एक विश्वसनीय रिपोर्ट के मुताबिक, बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट अकाउंट (BSBDA) जिसमें जन धन योजना अकाउंट भी शामिल हैं उनपर अचानक फ्रीज होने या रेग्युलर होने का खतरा है.
 
जनधन खाते में प्रति महीने बस चार मुफ्त ट्रांजेक्शन की सुविधा मिल रही है. चूंकि इन चार लेनदेन का कोई शुल्क नहीं लगता है, इसलिए चार ट्रांजेक्शन के बाद कई खाते को बैंक फ्रीज कर रही है. स्टेट बैंक, एचडीएफसी, सिटी बैंक और कई अन्य बैंक तो चार मुफ्त लेनदेन के बाद जनधन खाते को सामान्य बचत खाते में बदल रहे हैं.

खाता रेग्युलर होने का नुकसान यह है कि अगर बैंक द्वारा निर्धारित न्यूनतम राशि अकाउंट में न रखी गई तो कस्टमर को इसका पेनाल्टी चार्ज भरना पड़ रहा है. जनधन खता वैसे लोगों को खुलवाया गया था जो आर्थिक रूप से काफी कमजोर थे जिनका बैंक से कोई लेना देना नहीं था. बैंक की इस तरकीब से बैंकों की तिजोरी तो भरेगी लेकिन गरीब और गरीब होते जाएंगे.

ये भी पढ़ें - क्या अब इलेक्ट्रिक वाहन कंपनी खरीदने की तैयारी में पतंजलि आयुर्वेद ?

ज्यादा से ज्यादा लोगों को बैंक खाते से जोड़ा जाए इसके लिए जन धन खाते की योजना शुरू की गई. गरीब भी खाता खुलवाने को आकर्षित हों इसके लिए ट्रांजेक्शन को मुफ्त रखा गया. बैंकों पर भी ज्यादा दबाव न पड़े इसके लिए महीने में चार ट्रांजसेक्शन मुफ्त रखे गए. इतना ही नहीं, बैंकों ने 4 डेबिट ट्रांजेक्शन को भी कुल लेनदेन में समेट दिया.

आरटीजीएस, एनईएफटी, क्लियरिंग, ब्रांच विड्रॉल, ट्रांसफर, इंटरनेट डेबिट को मिलाकर चार से ज्यादा मुफ्त ट्रांजेक्शन पर रोक लगा दी गई. इसका मतलब यह हुआ कि दो बार अगर पैसे निकाल लिए और 20 दिन में दो बार डेबिट कार्ड का उपयोग कर लिया तो अब ट्रांजेक्शन के लिए अगले महीने तक इंतजार करना होगा.

गौरतलब है कि यह जानकारी टाइम्स ऑफ इंडिया और IIT मुंबई की एक रिपोर्ट में सामने आई है, इस रिपोर्ट में बताया गया है कि SBI और एक्सिस बैंक खाता फ्रीज कर देते हैं जबकि HDFC और सिटी बैंक जनधन अकाउंट को उन्हें रेग्युलर बैंक अकाउंट में बदल देते हैं. आईसीआईसीआई बैंक ने हाल में 5वे ट्रांजैक्शन पर चार्ज लेना शुरू किया था, लेकिन विरोध के बाद फिलहाल इस पर रोक लगी है.

First published: 28 May 2018, 18:49 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी