Home » बिज़नेस » GST Slab: Know about costlier and cheaper goods
 

जानिए जीएसटी की दरें तय होने के बाद आपके लिए क्या सस्ता, क्या महंगा?

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 November 2016, 11:36 IST

एक अप्रैल 2017 से वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू करने की दिशा में केंद्र सरकार बड़ी मुश्किल को हल कर लिया है. जीएसटी काउंसिल की बैठक में दर तय किए गए हैं.

गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स के लिए चार स्तर के टैक्स स्लैब निर्धारित किए गए हैं. अनाज के अलावा रोजमर्रा इस्तेमाल होने वाली आधी चीजों पर कोई टैक्स नहीं लगेगा. दौनिक उपभोग की बाकी वस्तुओं पर भी टैक्स स्लैब को कम रखा गया है.

जीएसटी की नई दरों के बाद छोटी कारें, टीवी और फ्रिज जैसे कई सामान सस्ते होने की उम्मीद है. ऐसे में कुछ महीने बाद यानी अप्रैल 2017 से इनकी कीमत कम होने की उम्मीद है. ऐसा इसलिए कि जीएसटी की जो दरें तय हुई हैं, वो कुल मौजूदा टैक्स से कम हैं.

जीएसटी के 4 टैक्स स्लैब पर सहमति

जीएसटी काउंसिल की बैठक में टैक्स के चार स्लैब 5, 12, 18 और 28 फीसदी पर सहमति बनी है. रोजमर्रा की ज्यादातर चीजों पर जीएसटी की दर 5 फीसदी होगी.

वहीं 12 और 18 फीसदी का स्लैब साबुन, शैंपू, शेविंग क्रीम जैसे सामानों पर लागू होगा. इसके साथ ही 28 फीसदी के स्लैब में सामान्य कारों को शामिल करने की संभावना है.

वहीं पान मसाले, तंबाकू वाले उत्पाद और लग्जरी सामानों पर 28 फीसदी जीएसटी के अलावा सेस भी लगेगा. सोने पर 4 फीसदी की दर से जीएसटी का प्रस्ताव था. लेकिन फिलहाल इसे ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है.

वित्त मंत्री अरुण जेटली का कहना है कि जीएसटी की दरें जनता को ध्यान में रखकर तय की गई हैं. एक नजर सस्ते और महंगे होने वाले संभावित समानों पर:

क्या होगा सस्ता?

चाय- टाटा के एक किलो का पैक अभी 420 रुपये का है. इस पर 5.66 फीसदी टैक्स लगता है. एमआरपी पर प्रभावी जीएसटी 4.76 होगा. यानी 0.9 फीसदी की बचत होगी. 

जैम- किसान जैम के 700 ग्राम डिब्बे की कीमत 175 रुपये है. इस पर भी 0.9 फीसदी कम टैक्स लगेगा.

मोबाइल- अभी 19.63 फीसदी टैक्स है. जीएसटी की दर 15.25 फीसदी होगी. यानी 4.4 फीसदी कम टैक्स लगेगा.

खाद्य तेल, मसाला- अभी इन पर 9 फीसदी टैक्स लगता है, जबकि नई दरों के बाद पांच फीसदी जीएसटी लगेगा. यानी चार फीसदी की बचत. 

कंप्यूटर- अभी यह 9 से 15 फीसदी वाले टैक्स स्लैब में है. जबकि जीएसटी दर 12 फीसदी तय हुई है.

साबुन और शेविंग रेजर- अभी यह 15 से 21 फीसदी टैक्स स्लैब में है. वहीं जीएसटी दर 18 फीसदी तय हुई है.

क्या होगा महंगा?

जूते-चप्पल- अभी ज्यादातर फुटवेयर पर 15.04 फीसदी टैक्स है, जबकि जीएसटी में 15.25 फीसदी है. यानी जेब पर 0.2 फीसदी टैक्स का बोझ पड़ेगा. 

मिनरल वॉटर- बोतलबंद पानी की एक बोतल पर 18.38 फीसदी के बजाए 21.88 फीसदी टैक्स लागू होगा यानी 3.5 फीसदी ज्यादा टैक्स.

साबुन- मौजूदा टैक्स दर 20.25 फीसदी है, जबकि जीएसटी की दर 21.88 यानी 1.6 फीसदी बढ़ा हुआ टैक्स.

साइकिल- 9.26 फीसदी टैक्स अभी देना पड़ता है. जीएसटी की दर 10.71 होगी यानी डेढ़ फीसदी ज्यादा टैक्स.

पेन- मौजूदा 13.16 से बढ़ाकर 15.25 फीसदी. 2.1 फीसदी बढ़ा हुआ टैक्स. 

व्हाइट गुड्स, एलईडी टीवी- अभी 21 फीसदी टैक्स निर्धारित है. इसके लिए 28 फीसदी जीएसटी दर तय हुई है. 7 फीसदी बढ़ा हुआ टैक्स.

First published: 4 November 2016, 11:36 IST
 
अगली कहानी