Home » बिज़नेस » Larsen and Turbo lays off 14,000 employees in 6 months
 

L&T ने पिछले 6 महीने में 14000 कर्मचारियों को कंपनी से निकाला

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 November 2016, 15:40 IST

आर्थिक चुनौतियों से जूझ रही इंजीनियरिंग क्षेत्र की प्रमुख कंपनी लार्सन एंड टुब्रो (एलएंडटी) ने इस साल अप्रैल-सितंबर अवधि में अपने विभिन्न कारोबारों में से 14000 कर्मचारियों को काम से निकाल दिया है. कंपनी का कहना है कि ऐसा करना ‘प्रतिस्पर्धी और गतिशील’ बने रहने के लिए जरूरी था.

यह हाल के दिनों में होने वाली बड़ी छंटनी है, क्योंकि यह कंपनी के कार्यबल का लगभग 11.2 फीसदी है. कंपनी के मुताबिक यह फैसला बिजनेस में आई मंदी के चलते लिया गया है.

कंपनी के मुख्य वित्त अधिकारी आर. शंकर रमन ने कहा, "यह एक रणनीतिक फैसला था. यदि कोई कारोबार सही रूप में नहीं है, तो हम उसे फिर से ठीक करने का प्रयास कर रहे हैं. यदि किसी कारोबार को वापस सामान्य स्तर पर लाना है तो यह आवश्यक है कि हम कम प्रतिलाभ को घटाएं. इसलिए जिन नौकरियों को हमने अनावश्यक पाया तो हमने लोगों को बाहर जाने की अनुमति दी."

रमन ने कहा, "हमारे विभिन्न कारोबारों में कुल 1.2 लाख कर्मचारी काम करते हैं, जिसमें से चालू वित्तवर्ष की पहली छमाही में 14000 लोगों को काम से निकाला गया है." रमन ने इसके बारे में विस्तृत जानकारी नहीं दी कि किन-किन कारोबारों में छंटनी की गई है. 

उन्होंने कहा, "वित्तीय सेवाओं का कारोबार अपने कुछ लक्ष्यों से भटक रहा था, इसलिए कई लोगों को जाने दिया गया. इसी प्रकार खनिज एवं धातु क्षेत्र में भी लोगों को जाने दिया गया." उन्होंने कहा कि कंपनी अपने विभिन्न कारोबारों में प्रतिस्पर्धी बने रहने की कोशिश कर रही है.

रमन ने यह भी कहा कि यह तात्कालिक फैसला है और भविष्‍य में और कर्मचारियों की छंटनी की कंपनी की  फिलहाल योजना नहीं है.

First published: 23 November 2016, 15:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी