Home » बिज़नेस » Lockdown: Petrol-Diesel consumption in India biggest cut in a decade
 

लॉकडाउन : भारत में पेट्रोल-डीजल की खपत में एक दशक की सबसे बड़ी कटौती

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 April 2020, 16:46 IST

Coronavirus के मद्देनजर भारत की ईंधन खपत मार्च में 18 प्रतिशत गिर गई है. यह एक दशक में यह सबसे बड़ी कटौती मानी जा रही है. भारत में 21 दिन के मद्देनजर परिवहन को बंद किया गया है. आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार भारत में पेट्रोलियम उत्पाद की खपत मार्च में 17.79 फीसदी घटकर 16.08 मिलियन टन रह गई है.

डीजल, पेट्रोल और एविएशन टरबाइन ईंधन की मांग में बड़ी कमी आई है. डीजल की मांग जो देश में सबसे अधिक है, 24.23 फीसदी घटकर 5.65 मिलियन टन हो गई. लॉकडाउन के बाद 90 फीसदी ट्रकों के सड़क से चले जाने के बाद देश की डीजल खपत में यह सबसे बड़ी गिरावट है.


यात्रा प्रतिबंधों के कारण अधिकांश कारों और दोपहिया वाहनों के सड़कों से हटने से पेट्रोल की बिक्री 16.37 फीसदी घटकर 2.15 मिलियन टन रह गई है. हालांकि मंगलवार को रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार भारतीय रिफाइनर्स को उम्मीद है कि कम से कम एक-दो सप्ताह में यह शुरू हो जायेगा.

समाचार एजेंसी के अनुसार बताया गया है कि भारत के ईंधन की खपत अगले 10-15 दिनों में ठीक होने की संभावना है, क्योंकि गैर-जरूरी वस्तुओं को ले जाने के लिए ट्रकों की आवाजाही सहित मांग में वृद्धि होगी. रिफाइनरियों के प्रमुख आर. रामचंद्रन ने कहा कि भारतीय रिफाइनर्स के लिए निर्यात पर विचार करना आवश्यक है.

सरकार ने कोरोना महामारी को नियंत्रित करने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन के तहत सभी ट्रेनों, बसों और उड़ानों को निलंबित कर दिया है. भारत में पुष्टि किए गए कोरोना वायरस मामलों की संख्या गुरुवार को बढ़कर 5,734 हो गई. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में 166 लोगों की मौत हुई है.

Lockdown Impact: रामायण, महाभारत की बदौलत DD बना हिंदी बेल्ट में सबसे ज्यादा देखा जाने वाला चैनल

First published: 9 April 2020, 16:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी