Home » बिज़नेस » Major decline in country's electricity supply for the fifth consecutive month
 

लगातार पांचवें महीने देश की बिजली आपूर्ति में आयी बड़ी गिरावट, ये हो सकता है कारण

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 January 2020, 16:46 IST

लगातार पांचवें महीने दिसंबर में भारत की बिजली की आपूर्ति में कमी आयी है. जानकारों का मानना है कि यह आर्थिक मंदी सुस्त औद्योगिक गतिविधि को दर्शाती है. बिजली आपूर्ति दिसंबर में 101.92 बिलियन यूनिट्स तक गिर गई, जो पिछले साल के 103.04 बिलियन यूनिट्स से 1.1% कम है.

सेंट्रल एलेट्रीसिटी अथॉरिटी (सीईए), इस महीने के अंत में बिजली की मांग पर आधिकारिक डेटा जारी कर सकता है. सीईए के अनुसार नवंबर में बिजली की आपूर्ति 4.2% और अक्टूबर में 12.8% गिरी. बिजली की मांग और आपूर्ति में अक्टूबर की गिरावट कम से कम 12 वर्षों में सबसे ज्यादा थी. बिजली की मांग को अर्थशास्त्रियों द्वारा औद्योगिक उत्पादन के एक महत्वपूर्ण संकेतक के रूप में देखा जाता है.


भारत की समग्र आर्थिक वृद्धि जुलाई-सितंबर तिमाही में घटकर 4.5% हो गई, नवंबर में सरकारी आंकड़ों से पता चला कि 2013 के बाद से उपभोक्ता मांग और निजी निवेश में यह बड़ी गिरावट है. धीमी आर्थिक गतिविधियों के कारण कारों से लेकर कुकीज़ तक सब कुछ की बिक्री में गिरावट आई है. यही नहीं बड़े उद्योगों जैसे ऑटोमोबाइल सेक्टर में नौकरियों में कमी आई है.

फाइव स्टार होटल में 50 लाख हर महीने किराया दे रहा है लोकपाल का कार्यालय

First published: 2 January 2020, 16:44 IST
 
अगली कहानी