Home » बिज़नेस » Malaysia roll-out GST from June 1 even as India gung ho on its biggest tax reform
 

मलेशिया में क्यों फेल हुआ GST?

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 July 2018, 14:57 IST

भारत से पहले जीएसटी लागू करने वाले देश मलेशिया ने 1 जून से जीएसटी को बंद कर दिया है. इसे लागू करने के तीन साल बाद ही मलेशिया  सरकार ने इसे बंद कर दिया. यह फैसला वहां कि सरकार ने राजस्व में कमी और राजकोषीय घाटे में वृद्धि को देखते हुए लिया है. फिलहाल मलेशिया में सामानों पर शून्य फीसदी टैक्स है.

बता दें कि मलेसिया में जीएसटी को वर्ष 2015 में कम तेल की कीमतों के बीच लागू किया गया था. इसके बाद नए प्रधान मंत्री महाथिर मोहम्मद ने 6 प्रतिशत जीएसटी से छुटकारा पाने के लिए अपने चुनाव अभियान में वादा किया था ताकि बढ़ती लागत का हल किया जा सके. जिसके बाद 1 जून 2018 से इसे बंद कर दिया गया.

मलेशिया ने क्यों किया जीएसटी को बंद

जीएसटी का मतलब टैक्स की एक दर है. इसी हिसाब मलेशिया ने जीएसटी की दर 6 प्रतिशत रखी गई. जिससे सरकार को बड़े राजकोषीय घाटे का सामना करना पड़ा. वहीं भारत में इसके सफल होने के पीछे इसके पांच स्लैब में बंटने का राज है. भारत में जीएसटी पांच स्लैबों में बंटा है, 0 प्रतिशत, 5 प्रतिशत, 12 प्रतिशत, 18 और 28 प्रतिशत.

ये भी पढ़ें-जानिये कैसे खुलता है स्विस बैंक में खाता, क्या हैं मिनिमन बैलेंस और अन्य शर्तें ?

भारत में आज जीएसटी के एक साल पूरा होने पर सरकार जीएसटी दिवस के रुप में मना रही है. इस दौरान सरकार ने अरविंद सुब्रमण्यम की बात को माना भी है और कहा है कि जीएसटी के तहत जो पांच स्लैब हैं उन्हें कम किया जाएगा. 12 और 18 के स्लैब को मिला कर 15 किए जाने के बारे में विचार हो रहा है. हालांकि वित्त मंत्रालय ने कहा है कि अभी वो ऐसा नहीं कर सकते क्योंकि जीएसटी अभी स्थिर नहीं हो पाया है. राज्य और केंद्र में इससे जितने सरकारी राजस्व की उम्मीद थी शायद अभी उतना नहीं आ रहा है.

First published: 1 July 2018, 14:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी