Home » बिज़नेस » Maruti Suzuki to roll out new entry-level car in 2020
 

ग्रामीण भारत को चार पहियों पर लाने की तैयारी में है मारुति सुजुकी

सुनील रावत | Updated on: 17 July 2018, 15:37 IST

देश की हर दूसरी कार की विक्रेता मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड ने दो दशकों से अधिक समय में भारत में पहली बार अपनी पहली एंट्री लेवल कार पेश करने की योजना बनाई है. कंपनी को लगता है कि ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों में ऐसे वाहनों की मांग बढ़ सकती है.

भारत में बनाई गई यह कार, कोड-नामित वाई 1 के रोहतक में कंपनी के नए अनुसंधान और विकास केंद्र में बन रही है. मिंट में छपी एक खबर बताती है कि मारुति का नया उत्पाद में 800 सीसी और 1,000 सीसी के बीच पेट्रोल इंजन के साथ पेश होगा. हालांकि 2020 विनियामक मानदंडों के साथ इसे बाजार में लाना बड़ी चुनौती होगी.

इस मामले की जानकारी रखने वाले सूत्रों का कहना है कि कार भारत में नया बेंचमार्क स्थापित कर सकती है. हालांकि अभी तक कार के आकार और कीमत का खुलासा नहीं हो पाया है. हालांकि मारुति सुजुकी के प्रवक्ता ने भविष्य के उत्पादों और प्रौद्योगिकी पर टिप्पणी करने से इंकार कर दिया. मारुति की नई एंट्री लेवल कार को पेश करने की उस वक्त हो रही है. जब ऐसी छोटी कारों का बाजार हिस्सा घट रहा है.

कुल यात्री वाहनों की बिक्री में अल्टो और इयोन जैसी छोटी कारों का हिस्सा 31 मार्च 2018 को समाप्त वित्त वर्ष में 35 फीसदी से घटकर 18 फीसदी रह गया है. टाटा की नैनो की असफलता को भी इससे जोड़ कर देखा जा सकता है, जो अब लगभग बंद होने की कगार पर है.

अनुमान तो यह भी लगाया जा रहा है कि मारुति के नए एंट्री लेवल उत्पाद को अल्टो और वैगन आर के बीच रखा जाएगा. मारुति के प्रबंध निदेशक केनिची अयकावा ने बताया कि कंपनी की छोटी कारें उसके लिए रोटी और मक्खन बनी रहेंगी, भले ही जापानी कंपनी की माध्यम आकार की एसयूवी और सेडानों कारों में पिछले दो सालों में मार्जिन और मुनाफा बढ़ा है.

अयकावा ने एक इंटरव्यू में बताया कि ''ग्राहक की मांग बहुत तेजी से बदल रही है. किसी भी समय वे एक किफायती और अच्छे उत्पाद चाहते हैं. जबकि देश की आर्थिक स्थिति में बदलाव के साथ ग्राहकों की सोच भी बदल रही है. उन्होंने कहा हमें यह पता लगाना होगा कि वे क्या चाहते हैं लेकिन उनकी खरीदने की क्षमता को सबसे पहले देखना होगा.

इमर्जिंग मार्केट ऑटोमोटिव एडवाइजर्स के सह-संस्थापक और निदेशक दीपेश राठौर ने कहा, "कारों में सुरक्षा मानदंडों के कारण कीमतों में वृद्धि होती है. मारुति ने पहली बार 1983 में अपनी छोटी कार मारुति 800 लॉन्च की. जापान के सुजुकी मोटर कॉर्प की इकाई ने 2000 में अपना दूसरा उत्पाद लॉन्च किया, जो अल्टो के नाम से घ-घर की पहचान बन गया.

साल 2004 में देश में सबसे ज्यादा बिकने वाले वाहन के रूप में आल्टो ने मारुति 800 को पीछे छोड़ दिया. जानकारी के अनुसार 2021 तक अल्टो का एक ताज़ा संस्करण भी पेश किया जाने की उम्मीद है और इससे पहले नई वैगन आर बाजार में आ जाएगी.

ये भी पढ़ें : आयकर ने की अबतक की सबसे बड़ी जब्ती, मिला 160 करोड़ कैश, 100 किलो सोना

First published: 17 July 2018, 14:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी