Home » बिज़नेस » Maruti-Tata sales also fall in August, auto industry demands finance minister
 

मारुति-टाटा की बिक्री अगस्त में भी गिरी, ऑटो इंडस्ट्री ने वित्त मंत्री से की ये मांग

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 September 2019, 17:02 IST

लगातार कम हो रहीबिक्री के बीच ऑटो इंडस्ट्री बॉडी SIAM ने सोमवार को सरकार से तत्काल कदम उठाने की मांग की है. सियाम ने जीएसटी दरों को कम करने और स्क्रैपिंग नीति की शुरुआत करने की मांग की है. इस बीच अगस्त में यात्री वाहन निर्माताओं की बिक्री में 30 फीसदी की गिरावट देखी गई. सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (सियाम) ने कहा कि यहां तक कि वाणिज्यिक वाहन और दोपहिया वाहनों की बिक्री में काफी नकारात्मक संकेत है और अभी भी वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण इसको लेकर कोई घोषणा नहीं की गई है.

सियाम ने कहा लगातार गिरती बिक्री के बीच कई ऑटो कंपनियों ने अपने वाहनों में बड़ी छूट दी है. उन्होंने कहा कि वित्त मंत्री के वादे के अनुसार ऑटोमोबाइल उद्योग के सभी क्षेत्रों को कवर करने के लिए एक एकीकृत प्रोत्साहन-आधारित स्क्रैपज नीति के साथ आने की तत्काल आवश्यकता है.वाडेरा ने कहा, "त्योहार का मौसम नजदीक है, यह जरूरी है कि इन फैसलों को जल्दी से जल्दी लिया जाए और बिना देर किए घोषणा की जाए ताकि उद्योग को एक बेहतर त्योहारी सीजन की उम्मीद हो, जो उद्योग में रिकवरी को बढ़ावा दे सके."

 

इन कंपनियों की बिक्री में आयी बड़ी गिरावट

रविवार को मारुति सुजुकी इंडिया, हुंडई, महिंद्रा एंड महिंद्रा, टाटा मोटर्स और होंडा जैसी प्रमुख कंपनियों ने अगस्त में अपनी बिक्री में बड़ी गिरावट दर्ज की है. इस दौरान मारुति की बिक्री में 33% की गिरावट दर्ज की. सबसे बड़ा झटका टाटा मोटर्स को लगा जिसकी बिक्री 58% गिर गई. इसी तरह, होंडा कार्स इंडिया और टोयोटा किर्लोस्कर मोटर (TKM) की बिक्री क्रमशः 51% और 21% घट गई. महिंद्रा एंड महिंद्रा (एमएंडएम) ने अगस्त महीने में 45,373 यूनिट्स की तुलना में पिछले महीने अपनी घरेलू बिक्री में 26% से 33,564 यूनिट्स की गिरावट देखी.

Apple भारत के इस शहर में खोलने जा रहा है अपना पहला रिटेल स्टोर

 

First published: 2 September 2019, 16:41 IST
 
अगली कहानी