Home » बिज़नेस » Swabhimani Shetkari organization against onion import from pakistan
 

पाकिस्तान से प्याज मंगाने की है तैयारी, भड़के किसान, पूछा- किसान उससे बड़े दुश्मन हैं ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 September 2019, 11:39 IST

सरकार के स्वामित्व वाली कंपनी एमएमटीसी (मेटल्स एंड मिनरल्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया) लिमिटेड पाकिस्तान, मिस्र, चीन, अफ़ग़ानिस्तान और अन्य देशों से प्याज़ के आयात करना चाहती है, जिसका महाराष्ट्र के किसानों ने विरोध किया है. महाराष्ट्र के स्वाभिमानी शेतकारी संगठन ने पाकिस्तान से प्याज इम्पोर्ट करने का विरोध किया है. संगठन का कहना है कि महीनेभर के अंदर खरीफ की फसल कटने वाली है फिर बाहर से प्याज़ आयात करने से देश के किसानों को नुकसान होगा. स्वाभिमानी शेतकारी संगठन का कहना है ''पाकिस्तान से प्याज का आयात क्यों किया जा रहा है, क्या भारत के किसान उससे बड़े दुश्मन हैं?"

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार स्वाभिमानी शेतकरी संगठन के अध्यक्ष राजू शेट्टी ने कहा  “दिवाली के बाद सिर्फ एक महीने में हमारी खरीफ की फसल की कटाई होने वाली है, तो वे ऐसा कैसे कर सकते हैं? और पाकिस्तान से क्यों? क्या भारतीय किसान एक बड़ा दुश्मन है? ” वर्तमान में महाराष्ट्र के नासिक जिले के लासलगाव में प्याज की थोक कीमत लगभग 2,300 रुपये प्रति क्विंटल हैं, जबकि प्रमुख महानगरों में 39-42 रुपये प्रति किलोग्राम पर खुदरा बिक्री हो रही है.

महाराष्ट्र के लासलगांव में एपीएमसी (कृषि उत्पादन बाज़ार समिति) मंडी के अध्यक्ष जयदत्ता होल्कर का कहना है कि "जिस मात्रा के लिए निविदा मंगाई गई है (2000 टन, दो प्रतिशत प्लस और माइनस) वो ज़्यादा नहीं है लेकिन ये किसान की भावनाओं को प्रभावित करेगा. किसान रबी की फसल से भंडारण करते थे वो अब इसे बेचने की जल्दी करेंगे और इससे कीमतें कम होंगी."

देश के सबसे बड़े बाजार में प्याज का औसत मोडल मूल्य अप्रैल में 830 रुपये प्रति क्विंटल से बढ़कर मई में 931 रुपये, जून में 1,222 रुपये, जुलाई में 1,252 रुपये और अगस्त में 1,880 रुपये हो गया. इस महीने यह अब तक औसतन 2,377 रुपये प्रति क्विंटल है.

मोटर वीकल एक्ट: जुर्माना राशि पर केंद्र और गुजरात सरकार में टकराव की स्थिति

First published: 13 September 2019, 10:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी