Home » बिज़नेस » Modi Government has Launched New scheme, Dharmendra Pradhan announced, 2.25 lakh will get benefits
 

आज मोदी सरकार ने लांच की ये बड़ी स्कीम, 2.25 करोड़ को मिलेगा इसका सीधा लाभ

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 December 2018, 20:09 IST

मोदी सरकार ने आज एक ऐसी योजना की शुरुआत की है जिससे करीब ढाई करोड़ लोगों को रोजगार के साथ अन्य लाभ भी मिलेगा. वैसे तो केंद्र सरकार ने कई लोक-लुभावनी योजनाएं लांच की है लेकिन 2019 के चुनाव को नजदीक देख एक के बाद एक कई ऐसी स्कीम लागू कर रही है जिसका सीधा संबंध आम जनता हो. किसानों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य हो या महिलाओं के लिए उज्ज्वला योजना या फिर मोदी की मत्वाकांक्षी ''प्रधानमंत्री आवास योजना'' जिसके तहत साल 2022 तक सभी को घर देने का लक्ष्य रखा गया है. इस चुनावी मौसम में युवाओं को रोजगार देने के लिए भी प्रधानमंत्री कार्यालय सरकारी और निजी कंपनियों के साथ लगातार बैठक कर रही है. 

ये भी पढ़ें- सरकार से बाहर हुए मंत्री ने दी कांग्रेस छोड़ने की धमकी, इस राज्य में लहरा सकता है भगवा परचम

 

जिला और ब्लॉक वाइज किया जाएगा कवर

इसी प्लान के तहत पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने रविवार को यानि आज '‘उज्ज्वला सैनिटरी नैपकिन’ पहल की शुरुआत करते हुए कहा कि 2.25 करोड़ महिलाओं को सशक्त और आत्मनिर्भर बनाने के लिए इस योजना की पहल की गई है. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि तेल विपणन कंपनियां (ओएमसी) 2.94 करोड़ रुपए की लागत से सामान्य सेवा केंद्रों (कॉमन सर्विस सेंटर-CSR) में 100 विनिर्माण इकाइयों की स्थापना की जाएगी. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इस नई पहल के तहत ओडिशा के 30 जिलों में 93 ब्लॉक को कवर किया जाएगा.

प्रधान ने आगे कहा कि इस मिशन का लक्ष्य महिला स्वास्थ्य और स्वच्छता के साथ-साथ महिलाओं को शिक्षित करना, कम लागत वाले पर्यावरण के अनुकूल सैनिटरी पैड तक उनकी पहुंच बढ़ाना और ग्रामीण रोजगार एवं अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देना है. प्रधान ने कहा कि कम से कम 10 महिलाओं को प्रत्येक केन्द्र पर रोजगार मिलेगा. उनमें से चार से पांच महिलाएं नैपकिन बनाने और अन्य उसे बेचने का काम करेंगी.

धर्मेन्द्र प्रधान ने विश्वास जताते हुए कहा कि इस पहल के जरिए महिलाओं को रोजगार मिलेगा. इस स्कीम का लक्ष्य ओडिशा में 2.25 करोड़ महिलाओं को आर्थिक रूप से संपन्न और आत्मनिर्भर बनाना है. सैनिटरी नैपकिन के उपयोग को एक जन आंदोलन बनाने की आवश्यकता पर जोर देते हुए उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एफएफएचएस) के अनुसार, राज्य में सिर्फ 33.5 फीसदी महिलाएं ही सैनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल करती हैं.

First published: 30 December 2018, 20:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी