Home » बिज़नेस » Modi government in readiness to sell this government company after BPCL and Air India
 

BPCL और एयर इंडिया के बाद इस सरकारी कंपनी को बेचने की तैयारी में मोदी सरकार

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2020, 16:21 IST

केंद्र सरकार बीपीसीएल और एयर इंडिया के बाद अब एक और सार्वजनिक क्षेत्र के उपकरण सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (CEL) के निजीकरण की तैयारी कर रही है. एक रिपोर्ट के अनुसार सरकार ने इसके प्रबंधन नियंत्रण सहित 100 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने के लिए 16 मार्च तक लोगों को आमंत्रित किया है. कहा गया है कि चयनित बोलीदाता को अपने शेयरों में तीन साल की अवधि के लिए लॉक करना होगा, जिसके दौरान वह सीईएल में अपनी हिस्सेदारी की बिक्री नहीं कर सकता है.

BPCL और एयर इंडिया के बाद यह तीसरा मौका है जब सरकार ऐसा कदम उठा रही है. सरकार ने अगले वित्त वर्ष में CPSE के बिकवाली और IPO, OFS (बिक्री के लिए प्रस्ताव) से 2.1 लाख करोड़ विनिवेश आय का एक चुनौतीपूर्ण लक्ष्य निर्धारित किया है.

 

एक रिपोर्ट के अनुसार कहा गया है कि इच्छुक बिडर्स (जिसमें CEL के कर्मचारी भी शामिल हो सकते हैं) का मार्च 2019 तक न्यूनतम नेटवर्थ 50 करोड़ होना चाहिए. DIPAM ने CEL का पूर्ण आमंत्रण प्रारंभिक सूचना ज्ञापन (PIM) जारी किया है.

सीईएल सौर फोटोवोल्टिक (एसपीवी) के क्षेत्र में देश में अग्रणी है, जिसने 1977 में भारत का पहला सौर सेल और 1978 में पहला सौर पैनल विकसित किया था. इसने 1992 में भारत का पहला सौर संयंत्र चालू करने का गौरव प्राप्त किया था. 2015 में यात्री ट्रेन की छतों पर उपयोग के लिए पहला सौर पैनल विकसित और निर्मित किया है.

 ATM में नहीं मिल रहा है 2000 का नोट, बैंक ने दिया अपने कर्मचारियों को ये बड़ा निर्देश

First published: 10 February 2020, 16:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी