Home » बिज़नेस » Modi Government, India has solved the problem of oil payments in Iran, US has imposed a number of restrictions on Iran
 

मोदी देंगे अमेरिकी ट्रंप को पटखनी! ईरान से तेल खरीदने का निकला ये तोड़

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 September 2018, 15:10 IST

भारत तेल का बड़ा हिस्सा ईरान से आयात करता है. अमेरिका ने ईरान पर कई तरह के प्रतिबन्ध लगाए हैं तेल से जुड़े प्रतिबंध 4 नवंबर से लागू हो जाएंगे. ऐसे में तेल आयात करने में भारत के लिए बड़ी मुश्किल हालात पैदा हो सकते थे, लेकिन भारत ने ईरान को तेल भुगतान में आने वाली समस्या का समाधान निकाल लिया है.

अमेरिकी प्रतिबंधों को देखते हुए भारत ने यूको बैंक और आईडीबीआई बैंक के जरिए ईरान को भुगतान करने का फैसला किया है. तेल उद्योग से जुड़े विश्वस्त सूत्रों द्वारा यह जानकारी प्राप्त हुई है.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मई में ईरान के साथ परमाणु करार- 2015 तोड़ने का फैसला किया था और ईरान पर नए आर्थिक प्रतिबंध लगाने की घोषण की. ईरान पर अमेरिका द्वारा प्रस्तावित कुछ प्रतिबंध छह अगस्त से लागू हो गए जबकि तेल और बैंकिंग सेक्टर से जुड़े प्रतिबंध चार नवंबर से प्रभावी हो जाएंगे.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक एक संबंधित सूत्र ने कहा कि '' तेल से जुड़े किसी भी स्थिति से निपटने के लिए हम तैयार हो रहे हैं. हमें किसी भी हालत में क्रूड-ऑयल के लिए भुगतान करना है और हम नहीं चाहते कि भुगतान को लेकर डिफॉल्टर हों.''सूत्रों ने ये भी बताया बताया कि ईरान को भुगतान के लिए भारत ने यूको बैंक और आईडीबीआई बैंक को चुना है.

गौरतलब है कि भारतीय तेल कंपनियां वर्तमान में भारतीय स्टेट बैंक (SBI) और जर्मनी के एक बैंक के जरिए ईरान को जर्मन करेंसी यूरो में तेल का भुगतान कर रही हैं. SBI ने तेल कंपनियों से कह दिया है कि वह तेहरान को नवंबर से अपना भुगतान रोक देगा.

एक अन्य सूत्र की मानें तो भारत ने मई महीने में ही अमेरिका की घोषणा के बाद ईरान को तेल का कुछ भुगतान अपने करेंसी रुपए में कर दिया था. रॉयटर्स की बीते जून की रिपोर्ट में कहा गया था कि भारत ईरान को तेल का भुगतान करने के लिए अपने पहले जैसा भुगतान तंत्र (Payment Process) यानि रुपया में पेमेंट शुरू करने पर दोबारा विचार कर रहा है.

First published: 21 September 2018, 15:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी