Home » बिज़नेस » Modi government on social security code for PF Pension, 50 crore workers will get benefit
 

मोदी का मास्टरस्ट्रोक, 50 करोड़ कर्मियों को मिलेगा इस स्कीम का बंपर लाभ, सीधे अकाउंट में आएगा पैसा

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 December 2018, 18:13 IST

मोदी सरकार 2019 आम चुनाव से पहले करोड़ों कर्मचारियों को बड़ी सौगात दे सकती है. ख़बरों की मानें तो इस योजना को चुनाव से पहले मोदी का मास्टरस्ट्रोक कहा जा रहा है जिससे 50 करोड़ लोगों को सीधा लाभ मिलेगा और लाभुक रिटर्न गिफ्ट के तौर पर मोदी को अपना बहुमूल्य वोट देंगे. यह लाभ संगठित और निजी दोनों सेक्टर के वर्कर्स को मिलेंगे जिससे उनका भविष्य आर्थिक तौर पर हद तक सुरक्षित हो जायेगा. केंद्र सरकार 50 करोड़ वर्कर्स को भविष्य निधि / पीएफ (प्रॉविडेंट फंड) और पेंशन की सुविधा देने की घोषणा कर सकती है.

रिपोर्ट्स के अनुसार सरकार सामाजिक सुरक्षा योजना यानि सोशल सिक्योरिटी कोड को तीन चरणों में लागू करने की तैयारी कर रही है. वर्तमान में सिर्फ संगठित क्षेत्र (ओर्गनइज्ड सेक्टर) में काम करने वाले करीब 10 करोड़ वर्कर्स को ही पीएफ और पेंशन की सुविधा मिल रही है. मोदी सरकार की इस योजना को बड़ी संख्या में वोटरों को आकर्षित करने के दांव के तौर पर देखा जा रहा है. 

सरकार 50 करोड़ वर्कर्स का विश्वकर्मा अकाउंट खुलवाएगी

मोदी सरकार आने वाले समय में 50 करोड़ वर्कर्स का विश्वकर्मा अकाउंट खुलवाएगी, यह एक सोशल सिक्‍योरिटी अकाउंट होगा जो आपको पीएफ पेंशन और ग्रुप मेडिकल इन्‍श्‍योरेंस के अलावा बेरोजगारी से दौर में लाभ मुहैया कराएगा. गौरतलब है कि सेंट्रल लेबर मिनिस्टर संतोष गंगवार लोकसभा में कह चुके हैं कि सरकार ने असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले वर्कर्स को पीएफ पेंशन सहित दूसरी सुविधाएं मुहैया कराने का प्‍लान तैयार कर लिया है. 

अनइम्‍पलॉयमेंट बेनिफिट यानि बेरोजगारी का सहारा

अगर किसी वर्कर की किसी भी नौकरी चली जाती है तो उनका विश्‍वकर्मा खाता सुनिश्चित करेगा कि उस वर्कर को नौकरी मिलने का अनइम्‍पलॉयमेंट बेनेफिट मिले जिससे वो अगली नौकरी मिलने तक अपना गुजर-बसर कर सके. इसके तहत उस वर्कर को तय समय के लिए एक निश्चित अमाउंट मिलेगा जिससे वह अपने परिवार का खर्च चलाने के साथ दूसरी नौकरी खोज सके. वर्कर को उसके पूर्व सैलरी के अनुसार पैसा दिया जायेगा.

इनवैलिडिटी बेनिफिट यानि बीमारी के दौर में आर्थिक सुरक्षा

अक्सर ऐसा देखा जाता है कि प्राइवेट सेक्टर में नौकरी करने वाला कोई व्‍यक्ति बीमार पड़ता है तो आर्थिक तंगी उसे सबसे ज्यादा परेशान करती है क्योंकि उसके पास आय के कोई श्रोत नहीं रह जाता है. अगर कोई वर्कर बीमारी की वजह से लंबे समय तक काम करने के योग्‍य नही रह जाता है तो इनवैलिडिटी बेनेफिट के तहत उसे एक निश्चित राशि का भुगतान किया जाता है. विश्‍वकर्मा खाता वर्कर के लिए इनवैलिडिटी बेनेफिट भी सुनिश्चित करेगा. 

ऐसे खुलेगा विश्‍वकर्मा अकाउंट

वर्कर की कंपनी या संस्‍थान की जिम्‍मेदारी होगी वह एक तय समय में उस वर्कर का विश्‍वकर्मा खाता खुलवाए. अगर कंपनी या संस्‍थान वर्कर का खाता तय समय में नही खुलवाता है तो वर्कर खुद से अपना खाता खुलवा सकेगा, इसके लिए केंद्र सरकार अलग से प्रावधान ला रही है. इसके अलावा अगर कोई अपना खुद का काम या छोटा-मोटा कारोबार करता है तो वह भी अपना विश्‍वकर्मा खाता खुलवा सकता है.

देश के किसी भी हिस्से में काम कर रहे वर्कर का एक बार अगर खाता खुल गया तो वो उसका लाभ अन्य शहरों में काम करने के बाद भी मिलेगा. जैसे अगर कोई दिल्ली में काम कर रहा है और उसका विश्‍वकर्मा खाता खुल गया है तो वह बिहार यूपी या कहीं भी जाकर काम करने पर उसे नए विश्‍वकर्मा खाता खुलवाने की जरूरत नहीं होगी.

First published: 2 December 2018, 18:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी