Home » बिज़नेस » Modi Government suggests cut in PF contributions then your salary may raise
 

आपकी सैलरी में जल्द होने जा रहा है ये बड़ा बदलाव, EPF नियमों में भी होगा बड़ा बदलाव

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 August 2019, 12:11 IST

अगर आप नौकरी करते हैं तो आपके लिए खुशखबरी है. क्योंकि लेबर एंड एंप्लॉयमेंट मिनिस्ट्री ने सलाह दी है कि एंप्लॉयीज प्रोविडेंट फंड (EPF) में कर्मचारियों का अंशदान कम किया जाना चाहिए. ऐसा करने से आपकी सैलरी पर असर पड़ेगा और आपके हाथ में पहले से अधिक सैलरी आएगी. इसीलिए इस सलाह को मान लिया जाता है तो आपके लिए बहुत फायदा होगा.

बिजनेस स्टैंडर्ड की रिपोर्ट के मुताबिक, श्रम मंत्रालय की यह सिफारिश मानी गई तो कर्मचारियों के हाथ में आने वाली सैलरी बढ़ जाएगी. इस रिपोर्ट के मुताबिक, कर्मचारियों की सैलरी का कितना हिस्सा EPF में जाएगा, इसका फैसला उसकी उम्र, लिंग और पेग्रेड के हिसाब से होगा, हालांकि ईपीएफ में कंपनी की हिस्सेदारी पहले की तरह ही रहेगी.

बता दें कि फिलहाल ईपीएफ में बेसिक सैलरी का 24 फीसदी हिस्सा जमा होता है. इसमें से 12 फीसदी हिस्सा कर्मचारी की सैलरी से जमा होता है वहीं बाकी 12 फीसदी हिस्सा कंपनी द्वारा जमा किया जाता है. बता दें कि जिस कर्मचारी को हर महीने 15,000 रुपए सैलरी मिलती है. उसका PF कटना जरूरी होता है.

ठीक इसी तरह जिन कंपनियों के पास कम से कम 20 कर्मचारी है, उन्हें अपने कर्मचारियों के लिए PF का 12 फीसदी हिस्सा जमा करना होता है. अब श्रम मंत्रालय ने इसी पीएफ को कम करने की सिफारिश मानी गई तो आपके हाथ में हर महीने अधिक पैसा आएगा लेकिन आपके पीएफ पर इसका कोई असर नहीं पड़ेगा. बता दें कर्मचारियों की तरफ से कंट्रीब्यूशन घटाने की यह सिफारिश एंप्लॉयीज प्रोविडेंट फंड एंड मिस्लेनियस बिल, 2019 में की गई है.

इन ट्रेनों के किराए में अगले महीने से मिल सकती है 25 फीसदी की छूट

First published: 29 August 2019, 12:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी